एमबीबीएस में बाहरी छात्रों के स्टेट कोटे पर अब तीसरे जज लेंगे फैसला

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला Updated Sat, 14 Jul 2018 01:48 PM IST
Himachal high court judgement over MBBS State quota
ख़बर सुनें
एमबीबीएस में बाहरी राज्यों में रहने वाले हिमाचली छात्रों के स्टेट कोटे पर दाखिला देने के मामले में अब हाईकोर्ट के तीसरे जज फैसला लेंगे। निजी क्षेत्र में नौकरी करने वालों के बच्चों को दाखिला देने पर खंडपीठ में विरोधाभास होने के चलते मामला तीसरे जज को भेजने का फैसला लिया गया है।
प्रदेश हाईकोर्ट ने एमबीबीएस कक्षाओं में दाखिले के लिए उन छात्रों को पात्र ठहराया है जिनके अभिभावक बाहरी राज्यों अथवा केंद्र सरकार के अधीन सरकारी नौकरी में हैं या कभी रहे थे और इस कारण वे प्रदेश के किसी स्कूल से जरूरी दो कक्षायें पास नहीं कर सके।

कोर्ट ने उन छात्रों को भी दाखिले के लिये कंसीडर करने की राज्य सरकार को छूट दी है जिनके अभिभावक निजी क्षेत्र में कार्यरत हैं या कभी रहे थे। यह राहत केवल उन्हीं छात्रों को दी गई है जिन्होंने हाईकोर्ट के समक्ष 29 जून से पहले याचिका दायर कर काउंसलिंग में भाग लेने की इजाजत मांगी थी।

कोर्ट ने ऐसे छात्रों को केवल उसी सूरत में दाखिला देने के लिए कंसीडर करने के आदेश दिए हैं अगर सभी पात्र छात्रों को दाखिले के बाद कोई सीट बचती हो।
आगे पढ़ें

Spotlight

Most Read

Shimla

कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया 8 पोस्ट कोड की परीक्षाओं का शेड्यूल

आयोग ने फार्मासिस्ट और जूनियर इंजीनियर समेत आठ विभिन्न पोस्ट कोड की अगले माह होने वाली छंटनी परीक्षाओं का शेड्यूल जारी कर दिया है।

17 जुलाई 2018

Related Videos

VIDEO: देखिए, केदारनाथ में बनकर तैयार हुई पीएम मोदी की ‘गुफा’!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले निर्देशों के बाद केदारनाथ धाम में विशेष रूप से एक गुफा का निर्माण किया गया है। इस गुफा को बनाने के पीछे का मकसद है कि यहां आए भक्त साधना के इच्छुक हैं तो वो केदारपुरी की इस गुफा में रुक कर साधना कर सकते हैं।

17 जुलाई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen