विज्ञापन

1967 में पहली बार कांग्रेस के आधिपत्य को मिली थी चुनौती, नेहरू विरोध में बनी पार्टी रही नंबर दो पर

ललित फुलारा, चुनाव डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 14 Mar 2019 08:06 AM IST
1967 लोकसभा चुनाव
1967 लोकसभा चुनाव
ख़बर सुनें
52 साल पहले 1967 में चौथा लोकसभा चुनाव हुआ जो भारतीय राजनीति में कई मायनों में अहम रहा। यह पहली बार था जब आजाद भारत में कांग्रेस पार्टी के आधिपत्य को चुनौती मिली थी। 'स्वतंत्र पार्टी' चुनाव के बाद मजबूत विपक्ष के तौर पर उभरी इससे पहले के लोकसभा चुनावों में कोई भी पार्टी विपक्ष की भूमिका में नहीं थी। 'स्वतंत्र पार्टी' का उदय जवाहरलाल नेहरू की समाजवादी नीतियों के विरोध में हुआ था। नेहरू के दोस्त चक्रवर्ती राजगोपालाचारी ने कांग्रेस से अलग होकर 1959 में 'स्वतंत्र पार्टी' की नींव रखी थी। यह वही दौर था जब कांग्रेस में इंदिरा ने अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाली थी। तीसरे लोकसभा चुनाव में स्वतंत्र पार्टी के खाते में महज 18 सीटें आईं। पार्टी ने यह चुनाव नेहरू के खिलाफ लड़ा था। 1966 में इंदिरा गांधी देश की पहली महिला प्रधानमंत्री बनीं।
विज्ञापन
विज्ञापन
1967 में 17 फरवरी से 21 फरवरी के बीच चौथा आम चुनाव हुआ। कांग्रेस ने 520 सीटों में से 283 सीटें जीतीं। यह पहली बार था जब कांग्रेस को किसी लोकसभा चुनाव में इतना कम बहुमत मिला था। पार्टी का वोट शेयर भी कम रहा। 


इसे भी पढ़ें-लोकसभा चुनाव 1967: सिंडिकेट का सूपड़ा साफ कर कुर्सी पर काबिज होने में कामयाब रहीं इंदिरा


जनसंघ बनी तीसरी सबसे बड़ी पार्टी
1967 के लोकसभा चुनाव में 'जनसंघ' तीसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। जनसंघ ने चुनाव में 35 सीटें जीती। जबकि 'स्वतंत्र पार्टी' ने 44 सीटें जीती। 1962 के लोकसभा चुनाव में दोनों ही पार्टियों ने इससे कम सीटें जीती थीं। इस चुनाव में कांग्रेस का वोट शेयर 40.78 फीसदी में ही सिमट गया था। चुनाव में कुल मतदाताओं की भागादारी 61.04 फीसदी रही थी। प्रजा सोशलिस्ट पार्टी ने इस चुनाव में 13 सीटें जीती थीं। कांग्रेस को चौथे लोकसभा चुनाव में तीसरे लोकसभा चुनाव के मुकाबले 78 सीटें कम मिली थीं।




इसे भी पढ़ें- 1957 लोकसभा चुनाव: कांग्रेस को मिला था प्रचंड बहुमत, वाजपेयी पहली बार पहुंचे थे संसद

'स्वतंत्र पार्टी' एकमात्र सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी बनकर उभरी
1967 के लोकसभा चुनाव में 'स्वतंत्र पार्टी' एकमात्र सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी बनकर उभरी। इस चुनाव में वामपंथी पार्टियों को झटका लगा। जहां दूसरे लोकसभा चुनाव में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, वहीं चौथे आम चुनाव में पार्टी चौथे नंबर पर पहुंच गई। सीपीआई उस वक्त दो भागों में टूट गई थी। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने इस चुनाव में 109 सीटों पर प्रत्याशी उतारे और सिर्फ 23 सीटें जीतीं। जबकि सीपीएम 59 सीटों पर लड़ी और 19 सीटें जीती। भारतीय जनसंघ ने 249 सीटों पर चौथा लोकसभा चुनाव लड़ा और 35 सीटें जीतीं।

इसे भी पढ़ें- नेहरू-शास्त्री के देहांत से लेकर इंदिरा के पीएम बनने सहित कई वाकयों का गवाह रहा 1962 लोकसभा चुनाव

प्रजा सोशलिस्ट पार्टी ने संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के साथ किया था गठबंधन
चौथे लोकसभा चुनाव में प्रजा सोशलिस्ट पार्टी की सीटों में तीसरे आम चुनाव के मुकाबले बढ़ोतरी हुई थी। प्रजा सोशलिस्ट पार्टी ने इस चुनाव के लिए संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के साथ गठबंधन किया था। संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी का गठन 1964 में हुआ था। यह  पार्टी प्रजा सोशलिस्ट पार्टी से ही टूटकर बनी थी। चौथे लोकसभा चुनाव के बाद संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी 1972 में प्रजा सोशलिस्ट पार्टी में ही मिल गई। चुनाव में प्रजा सोशलिस्ट पार्टी ने 13 सीटें और संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी ने 23 सीटें जीती थीं। इस चुनाव में राष्ट्रीय पार्टियों के 1342 प्रत्याशी मैदान में उतरे थे। इनमें से 440 ने जीत दर्ज की। क्षेत्रीय पार्टियों के 148 प्रत्याशियों ने चुनाव लड़ा और 43 जीते। चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद 3 मार्च 1967 को दूसरी बार इंदिरा गांधी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी।

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

सपना चौधरी लड़ेंगी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव !

सपना चौधरी अपनी नई पारी शुरू कर सकती हैं। खबर है कि कांग्रेस मथुरा संसदीय क्षेत्र से हरियाणा की मशहूर डांसर सपना चौधरी को चुनाव मैदान में उतार सकती है। इस सीट पर भाजपा ने फिल्म अभिनेत्री व मौजूदा सांसद हेमा मालिनी को टिकट दिया है।

23 मार्च 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election