विज्ञापन

ऐतिहासिक समझौते की ओर

नई दिल्ली Updated Fri, 03 Apr 2015 08:15 PM IST
 towards The historic agreement
विज्ञापन
ख़बर सुनें
अमेरिका की अगुआई में विश्व की छह बड़ी ताकतों और ईरान के बीच यह सहमति बन गई है कि तेहरान अपना परमाणु कार्यक्रम सीमित करेगा और बदले में उसके खिलाफ लगाए गए प्रतिबंध हटाए जाएंगे। हालांकि अभी यह अंतरिम समझौता ही है, और अंतिम समझौते की रूपरेखा जून तक स्पष्ट हो पाएगी, पर इससे लंबे समय से जारी संशय और भय के माहौल को शांत करने में मदद मिलेगी।
विज्ञापन
ईरान परमाणु कार्यक्रम को अपनी ऊर्जा जरूरतों के लिए जरूरी बताता रहा है, पर अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी तक ने इसे संदिग्ध बताया था, जिससे इस बात को बल मिला कि ईरान परमाणु बम बनाने के नजदीक पहुंच गया है। यूरेनियम संवर्धन कार्यक्रम जारी रहने के साथ ही यह आशंका लगातार इसलिए बनी रही, क्योंकि ईरान अपने परमाणु संयंत्रों की अंतरराष्ट्रीय निगरानी से इन्कार करता रहा है। इसकी कीमत भी उसे भारी आर्थिक प्रतिबंधों के रूप में चुकानी पड़ी। हालत यह हो गई कि संयुक्त राष्ट्र, अमेरिका और यूरोपीय संघ के प्रतिबंधों की वजह से वह पूरी तरह अलग-थलग पड़ गया था।

करीब एक दशक की मशक्कत के बाद सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्यों और जर्मनी के साथ बनी सहमति के बाद अब उस पर लगे प्रतिबंधों के हटने का रास्ता साफ हो गया है। यही वजह है कि समझौते पर सहमति की घोषणा के बाद आम ईरानियों ने सड़कों पर उतरकर खुशियों का इजहार किया है। यह घटनाक्रम अमेरिका और ईरान के संबंधों के लिहाज से ऐतिहासिक कहा जा सकता है, क्योंकि 1979 की इस्लामिक क्रांति के बाद से दोनों देशों के बीच करीब चार दशक तक संवादहीनता थी।

समझौते का असर न केवल इन दोनों देशों के रिश्ते पर, बल्कि पश्चिम एशिया में भी पड़ सकता है, जहां हालात संकटपूर्ण हैं। यह स्पष्ट नहीं है कि इस्लामिक स्टेट के खिलाफ ईरान अमेरिका के नए सहयोगी के रूप में तो नहीं उभरेगा। इसी तरह यह भी साफ नहीं है कि अमेरिका के साथ ईरान के सुधरते रिश्ते को सुन्नी अरब देश किस तरह लेते हैं? वास्तव में इस समझौते को अंजाम तक पहुंचाने के साथ ही अमेरिका और पश्चिमी देशों को सुनिश्चित करना है कि इससे कोई नए तरह की चुनौती सामने न आए।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Campus Archives

इस दिन से होंगी यूजी परीक्षाएं, विवि ने बनाए 154 केंद्र

प्रदेश विश्वविद्यालय की यूजी डिग्री कोर्स बीए, बीएससी और बी-कॉम की सेमेस्टर अंत परीक्षाएं बीस अक्तूबर से शुरू होगी।

16 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

शुक्रवार को इस शुभ योग में करें कोई भी काम, नहीं आएगी अड़चन

शुक्रवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र और बन रहा है कौन सा योग? दिन के किस पहर करें शुभ काम? जानिए यहां और देखिए पंचांग शुक्रवार 19 अक्टूबर 2018।

19 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree