सोशल मीडिया में भी छाए 'आरुषि-हेमराज'

अमर उजाला, दिल्ली Updated Tue, 26 Nov 2013 04:20 PM IST
विज्ञापन
social media reaction on arushi-hemraj murder case

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
देश के सबसे चर्चित आरुषि-हेमराज के डबल मर्डर केस पर फैसला हो गया है। आज इस मामले में आरुषि और हेमराज के कातिल मां-बाप को फैसला सुनाया जाएगा।
विज्ञापन

दोहरे हत्याकांड में आरोपी राजेश तलवार और नुपुर तलवार को क्या सजा मिलेगी इस पर पूरे देश की नजर है। हर कोई इस मामले में अपनी अपनी प्रतिक्रिया रख रहा है। सेलेब्रिटी से लेकर आम लोग तक इस केस पर अपनी राय रख रहे हैं।
सोशल मीडिया पर भी इस केस पर काफी कुछ कहा और लिखा जा रहा है। फेसबुक और ट्विटर पर कल से ही इस मामले को लेकर प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।
ट्विटर पर कल से ही आरुषि (#Arushi) ट्रेडिंग में है। पढ़िए कुछ ऐसी ही प्रतिक्रियाएं।

अभिनेता कमाल खान @Kamaalrkhan लिखते हैं कि आखिर ये बात साफ क्यों नहीं हो पा रही है कि आरुषि का कत्ल क्यों किया गया है? ये बात सामने आनी चाहिए?

वहीं ट्विटर पर ही नंदिता ठाकुर @nanditathhakur लिखती हैं कि इस पूरे केस में सीबीआई की भूमिका भी संदिग्ध है।

कांग्रेस से जुड़े तहसीन पूनावाला @tehseenp ने ट्विटर पर लिखा कि इस मामले में मां-बाप दोषी हैं कि नहीं लेकिन मीडिया ने जिस तरह से आरुषि के चरित्र का हर कदम मर्डर किया है वो गलत है।

ट्विटर पर ही अजीत @aps16120 लिखते हैं कि अब आरुषि को न्याय मिल गया है। लेकिन अब पांच साल बाद मीडिया को उसके परिवार और इस मुद्दे को छोड़ देना चाहिए।

अमरजीत ठाकुर @AmarThakur लिखते हैं कि हर जगह आरुषि के कत्ल की चर्चा है कि लेकिन कत्ल तो हेमराज का भी हुआ था। इसको लेकर इतनी चर्चा क्यों नहीं है?

राजीव कश्यप @rajiv_kumar ने कल ट्विटर पर लिखा था कि सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री पर आज कोर्ट फैसला सुनाएगी लेकिन पूरे देश को पता है कि आरोपी कौन हैं?

ट्विटर के साथ-साथ फेसबुक पर भी इस मामले की खूब चर्चा है। लोग अपने अपने स्टेटस इस पर लिख रहे हैं।

फेसबुक पर रंजना रावत लिखती हैं कि जितना बड़ा फैसला उतने ही बड़े बड़े शब्दों के साथ वकील नरेश यादव कुछ इस प्रकार फैसला सुनाने के लिए मीडिया से मुख़ातिब हुए.."सेक्श्ान 302, सेक्श्ान 201 और सेक्श्ान 34 के अंतर्गत तलवार दंपति को दोषी ठहराया गया है"।

पत्रकार पंकज चतुर्वेदी अपनी फेसबुक वॉल पर लिखते हैं कि यदि आप गाज़ियाबाद कोर्ट, सीबीआई पर भरोसा करते हैं तो फिर आप यह भी मानते हैं कि प्यारी सी आरुषि और नौकर हेमराज के बीच संबंध थे। लेकिन मैं इस पर विश्वास नहीं करता हूं।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us