इस तबाही के गुनहगार

नई दिल्ली Updated Tue, 18 Jun 2013 11:14 PM IST
responsible for destruction
उत्तराखंड और हिमाचल के बड़े हिस्से आज जिस आपदा से जूझ रहे हैं, उसके लिए बारिश के कहर के साथ ही बेतरतीब विकास भी कम जिम्मेदार नहीं है।

उफनती नदियां, पत्तों की तरह गिरते मकान, खाई में बदलती सड़कें, खिलौने की तरह बहते वाहन, गले-गले तक डूबे लोग और थरथराता पहाड़, हालात को बयां करने के लिए ये मंजर काफी है। ऐसे हादसों के समय ही पहाड़ की दुभर जिंदगी का दर्द दुनिया के सामने आता है।

निश्चित ही कई दशकों बाद उत्तर भारत में जून के महीने में ऐसी भयंकर बारिश हुई है, लेकिन गंगा और उसकी सहायक नदियों ने जिस तरह का तांडव दिखाया है, उससे साफ है कि अतीत के हादसों से कोई सबक नहीं लिया गया है। उत्तराखंड और हिमाचल प्राकृतिक आपदाओं के लिहाज से तो पहले से ही अतिसंवेदनशील हैं, लेकिन उस दिल्ली का क्या, जहां हरियाणा से छोड़े गए पानी के कारण बाढ़ आ जाती है।

आज जो स्थिति है, उससे आपदा प्रबंधन की हमारी बेबसी ही उजागर हो रही है। कहने को तो राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का भी गठन किया गया है, लेकिन उसकी अपनी सीमाएं हैं। असल में यह सोचने की जरूरत है कि उत्तराखंड और हिमाचल जैसे पहाड़ी राज्यों का जरूरत से ज्यादा दोहन न हो, मगर इसका ठीक उल्टा हो रहा है।

गंगा और उसकी सहायक नदियों पर जिस तरह से बांध और पनबिजली परियोजनाएं बनाई गई हैं, उससे यहां का पर्यावरण संतुलन बुरी तरह से बिगड़ रहा है। इसके अलावा जंगलों की कटाई और अवैध खनन ने भी इसमें कम योगदान नहीं दिया है। बची-खुची कसर भवन निर्माण के कायदे-कानूनों को ताक पर रखकर पूरी कर दी गई है, वरना ऐसा कैसे होता कि नदी के किनारे इमारतों की कतारें खड़ी कर दी जातीं।

यह तो सबको पता था कि यह चार धाम और अन्य तीर्थ स्थलों की यात्रा का समय है, इससे यहां स्वाभाविक रूप से यात्रियों का दबाव होता है, ऐसे में यदि हजारों लोग लापता हैं, तो समझा जा सकता है कि प्रशासनिक स्तर पर जैसी तैयारियां होनी चाहिए, वह नहीं की गईं।

यह विडंबना ही है कि मौसम विभाग के अनुमानों के मुताबिक इस वर्ष पूरे देश में मानसून ने समय से पहले ही दस्तक दे दी है, लेकिन देश के एक हिस्से में यह कहर बनकर आया है। यह खतरे की घंटी है।

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Related Videos

राजधानी में बेखौफ बदमाश, दिनदहाड़े घर में घुसकर महिला का कत्ल

यूपी में बदमाशों का कहर जारी है। ग्रामीण क्षेत्रों को तो छोड़ ही दीजिए, राजधानी में भी लोग सुरक्षित नहीं हैं। शनिवार दोपहर बदमाशों ने लखनऊ में हार्डवेयर कारोबारी की पत्नी की दिनदहाड़े घर में घुस कर हत्या कर दी।

21 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper