विज्ञापन
विज्ञापन

ज्यादा जल्दी है तो अपने मरीज को यहां से ले जाओ

अमर उजाला ब्यूरो/ रोहतक Updated Thu, 06 Nov 2014 02:51 AM IST
ख़बर सुनें
प्रदेश के सबसे बड़े चिकित्सा संस्थान पीजीआई में एक बार फिर चिकित्सा इंतजामों की पोल खुल गई।
विज्ञापन
बोहर में हुए सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल युवक रजनीश (28) को पीजीआई में इलाज नहीं मिल सका। यहां के चिकित्सकों ने घायल के परिजनों को कहा कि ज्यादा जल्दी है तो मरीज को दूसरे अस्पताल में ले जाएं।

न वेंटिलेटर मिला और न ही सीटी स्कैन हो सका। सांसों की उम्मीद टूटते देख परिजनों को रजनीश को शहर के एक निजी अस्पताल में दाखिल कराना पड़ा।
बुधवार सुबह सड़क हादसे में पिता व दो साथियों को खो चुके रजनीश को पुलिस गंभीर अवस्था में आपात विभाग में छोड़ गई। यहां अज्ञात मरीज के तौर पर पहुंचे रजनीश को हरिओम सेवा दल के हवाले कर दिया गया। कुछ घंटे बाद रजनीश के जानकार पहुंचे तब तक उसकी हालत और खराब हो गई थी। हिमाचल से रजनीश के मित्र संदीप, बुआ के बेटे आकाश राणा, राजेश व गौरव राठौर पीजीआई पहुंचे।
बार-बार लगाई गुहार
घायल के परिजनों ने आरोप लगाया कि उन्होंने पीजीआई के चिकित्सकों से बार-बार उपचार की गुहार लगाई, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। डॉक्टरों ने कहा कि बगैर सीटी स्कैन रिपोर्ट के वे क्या कर सकते हैं? वेंटिलेटर भी खाली नहीं है। मरीज का उपचार करवाना है तो सीटी स्कैन करवा कर लाएं। लेकिन वे मरीज को अपनी जिम्मेदारी पर बाहर ले जाएं। आरोप है कि एक्स-रे रिपोर्ट लाने में भी स्टाफ ने अपनी मर्जी चलाई। मरीज को दवा देनी है या नहीं इसमें डॉक्टर स्वयं उलझे रहे। हालत बिगड़ने पर चिकित्सक को कहा तो जवाब मिला कि जब लावारिस हालत में मरीज आया तो भी वे उपचार कर रहे थे। अधिक जल्दी है तो अपने मरीज को यहां से ले जाओ। चिकित्सकों ने बताया कि उनके यहां सीटी स्कैन की मशीन खराब है, जो दो से तीन दिन बाद ठीक होगी। मजबूरी में रजनीश को एक निजी अस्पताल में दाखिल कराया गया है। जहां उसे आईसीयू में रखा गया है और हालत गंभीर बनी हुई है। परिजनों का कहना है कि वे चिकित्सकों की लापरवाही की शिकायत आला अधिकारियों, सीएम और स्वास्थ्य मंत्री से करेंगे।

बोले अधिकारी
सीटी स्कैन की मशीन सुबह 10 बजे से शाम चार बजे तक बंद थी। साफ-सफाई के दौरान कोई पुर्जा हिल गया था। बाद में इसे सही कर दिया गया।
- डॉ. रोहतास यादव, विभागाध्यक्ष, रेडियोलॉजी विभाग, पीजीआईएमएस।

सीटी स्कैन मशीन कुछ समय के लिए खराब थी। वेंटिलेटर पर मरीज को रखने के लिए जगह खाली नहीं थी। परिजनों को कोई शिकायत है तो वे लिखित में दें। जांच करवाकर कार्रवाई करेंगे।
- डॉ. चांद सिंह ढुल, निदेशक, पीजीआईएमएस।
विज्ञापन

Recommended

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?
Junglee Rummy

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Crime Archives

यूपी: रामलीला मंच पर डांस करने को लेकर विवाद, गोलीबारी में किशोर घायल

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में रामलीला में डांस को लेकर लोगों में जमकर मारपीट हो गई। झगड़ा इतना बढ़ गया कि इस दौरान रामलीला मंच पर तोड़फोड़ कर दी और फायरिंग भी हुई। फायरिंग करते समय छर्रा लगने से एक किशोर घायल हो गया...

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

कमलेश तिवारी हत्याकांड में ATS को मिली कामयाबी, दोनों मुख्य आरोपी गिरफ्तार

कमलेश तिवारी हत्याकांड में फरार दोनों आरोपियों को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है. दोनों आरोपियों के नाम अश्फाक और मुईनुद्दीन है.

22 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree