विज्ञापन
विज्ञापन

'एक न एक दिन असद को जाना ही होगा'

अलेप्पो/संयुक्त राष्ट्र/ एजेंसी Updated Fri, 03 Aug 2012 12:00 PM IST
kofi-annan-said-assad-must-go-one-day
ख़बर सुनें
कोफी अन्नान के सीरिया के लिए अंतरराष्ट्रीय शांतिदूत के पद से इस्तीफा देने से महाशक्तियों के बीच आरोप और प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। सीरिया पर प्रतिबंध संबंधी प्रस्ताव पर जिस तरह हाल ही में सुरक्षा परिषद में वीटो पॉवर बटे थे, ठीक वही झलक अन्नान के इस्तीफे की घोषणा के बाद दिखाई दी। हालांकि भारत ने कहा है कि वह सीरिया में शांति के प्रयासों को जारी रखने के लिए संयुक्त राष्ट्र-अरब लीग के दूत कोफी अन्नान को इस पद पर बनाए रखना पसंद करता।
विज्ञापन
विज्ञापन
अमेरिका ने अन्नान के इस्तीफे के लिए रूस और चीन को जिम्मेदार ठहराया है। वहीं चीन और रूस ने भी अन्नान के इस्तीफे पर अफसोस तो जताया है। उधर एक रिपोर्ट के अनुसार पद छोड़ने की घोषणा कर चुके अन्नान ने कहा है कि एक न एक दिन सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद को जाना ही होगा।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि भारत अन्नान के प्रयासों का प्रबल समर्थक रहा है। अन्नान ने बृहस्पतिवार को अपने पद से इस्तीफे का ऐलान किया था। पुरी ने कहा कि भारत ने उनकी छह सूत्री शांति योजना का निरंतर समर्थन किया है।

पुरी ने पीटीआई से कहा, ‘सीरिया में शांति लाने के लिए अन्नान ने जो प्रयास किए, उसके लिए हम उनके बहुत आभारी हैं। हम उन्हें पद पर बनाए रखना पसंद करते। हम उन परिस्थितियों को समझते हैं जिनमें उन्हें इस्तीफा देना पड़ा है।’

उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय सीरिया में अपनी जिम्मेदारियों से भाग नहीं सकता और उसे 20 अगस्त को सीरिया में संयुक्त राष्ट्र निगरानी मिशन के लिए तय सीमा खत्म होने के मद्देनजर प्रबंध करने होंगे। अन्नान ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून को सूचित किया कि 31 अगस्त की तय समयसीमा पूरी होने के बाद वह अपने पद पर बने रहने के इच्छुक नहीं हैं।

सीरिया में शांति के प्रयासों के मद्देनजर इसी साल फरवरी में अन्नान को दूत नियुक्त किया गया था। वह संयुक्त राष्ट्र के महासचिव भी रह चुके हैं। उधर अमेरिका ने कोफी अन्नान के इस्तीफे के लिए चीन और रूस को जिम्मेदार ठहराया है। इन दोनों देशों ने ही हाल में सुरक्षा परिषद में सीरिया संबंधी प्रस्ताव के विरोद में वीटो पॉवर का इस्तेमाल किया था। हालांकि भारत ने इस प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया था, जबकि पाकिस्तान ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया था। इस मतदान में सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी और 10 अस्थायी सदस्यों ने मतदान किया था।

अपने वक्तव्य में बान की मून ने कहा कि सयुंक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में निरंतर मतभेद हैं जिसके चलते वीटो अधिकार वाले सदस्य देश सीरिया के बारे में सहमति नहीं बना पाएं हैं और यही मतभेद कूटनीति की राह में रुकावट डाल रहे हैं जिसकी वजह से किसी भी मध्यस्थ का काम और भी ज्यादा मुश्किल हो जाता है। सीरिया पर प्रस्तावों को वीटो करने वाले रूस ने कहा है कि उसे कोफी अन्नान के फैसले का अफसोस है।

संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत विटाली चुरकिन ने कहा कि रूस ने हमेशा कोफी अन्नान का समर्थन किया है। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के अनुमान के मुताबिक पिछले वर्ष मार्च से सरकार विद्रोही प्रदर्शनों के शुरू होने से अब तक लगभग 20,000 लोग मारे गए हैं, साथ ही हजारों लोग सुरक्षा कारणों से सीरिया छोड़कर भाग चुके हैं।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

शनि जयंती के अवसर पर शनि दोष निवारण पूजा (03 जून 2019, सोमवार)
ज्योतिष समाधान

शनि जयंती के अवसर पर शनि दोष निवारण पूजा (03 जून 2019, सोमवार)

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

हरा सोना (तेंदू पत्ता) की चोरी रोकने पहुंचे वनकर्मियों को खदेड़ा

स्टेशन के कमरे व थाने परिसर में पहुंचकर बचाई जान

19 मई 2019

विज्ञापन

मध्य प्रदेश: खतरे में कांग्रेस, क्या गिर जाएगी कमलनाथ सरकार

मध्य प्रदेश में खतरे में कांग्रेस। क्या गिर जाएगी कमलनाथ सरकार ? देखिए क्या है पूरा मामला?

20 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election