विज्ञापन

दक्षिण चीन सागर क्षेत्र में बढ़ा तनाव

बीजिंग/एजेंसी Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
increased-tension-in-south-china-sea
ख़बर सुनें
दक्षिण चीन सागर मसले पर पड़ोसी देशों के साथ बढ़े तनाव के बीच मंगलवार को चीन ने विवादित क्षेत्र में अपने चार सर्विलांस शिप (निगरानी करने वाले जहाज) भेज दिया है। वियतनाम ने भी क्षेत्र में विदेशी पोत के मौजूद होने का दावा किया है।
विज्ञापन
राडार पर मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार सुबह जहाज नांशा द्वीपों पर पहुंच गए, जो विवादित क्षेत्र के बीच का हिस्सा है। सरकारी शिंहुआ समाचार एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि गश्त कर रहे चीन के स्टाफ ने तुरंत चीनी, अंग्रेजी और वियतनामी भाषा में एक संदेश प्रसारित किया। संदेश में चीन ने जिक्सा तथा नांशा द्वीपों की संप्रभुता का दावा किया।

उधर, वियतनाम भी इन द्वीपों पर अपना दावा ठोंकता आ रहा है। एक दिन पहले ही दक्षिण चीन सागर में यांगशू रीफ के पास चीन की टीम ने अभ्यास किया था। दो घंटे में अभ्यास आसानी से पूरा हो गया लेकिन मौसम खराब होने के कारण हेलीकाप्टर इसमें हिस्सा नहीं ले सके थे। 26 जून को दक्षिण चीन सागर के तटीय शहर सानया से चली टीम अब तक 2,000 नाटिकल मील से अधिक की समुद्री यात्रा कर चुकी है।

गौरतलब है कि वियतनाम की संसद में एक नया कानून पास होने के बाद चीन ने अपने जहाजों को द्वीपों की ओर भेजा है। इसमें वियतनाम ने इन द्वीपों को अपने विशेष आर्थिक जोन का हिस्सा बताया था। चीन ने तुरंत इस पर विरोध भी जताया था और वियतनाम के राजदूत को तलब कर अपनी नाराजगी व्यक्त की थी। यही नहीं फिलीपींस, ब्रुनेई, मलयेशिया और ताईवान भी दक्षिण सागर के कुछ हिस्सों को अपने विशेष आर्थिक जोन का टुकड़ा बताते रहे हैं। इस पर विवाद बना हुआ है।
विज्ञापन
विज्ञापन

Recommended

मैसकट रिलोडेड- देश की विविधता में एकता का जश्न
Invertis university

मैसकट रिलोडेड- देश की विविधता में एकता का जश्न

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

स्थायी कमीशन से महिला सैनिकों को कितना होगा फायदा

भारतीय सशस्त्र बलों में महिला अधिकारियों को स्थायी कमीशन के मिलने से न केवल रक्षा के क्षेत्र में भारत का डंका बजेगा बल्कि सभी सेवा कर्मियों के लिए अवसर की समानता भी उपलब्ध होगी।

17 फरवरी 2020

Most Read

City and States Archives

भारत की पहचान शक्तिशाली देश के रूप में बनी ये सौभाग्य की बात-यूपी विस अध्यक्ष

वैश्विक स्तर पर जिस तरह की चुनौतियां है उसका सामना करने के लिए दीनदयाल के विचारों को आत्मसात करने की जरूरत है। दीनदयाल उपाध्याय भारतीय राष्ट्रवाद को आगे बढ़ाने के लिए हमेशा लोगों को प्रेरित करते रहे

11 फरवरी 2020

विज्ञापन
आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us