पुरानी दोस्ती को नया रंग

Vikrant Chaturvedi Updated Tue, 25 Dec 2012 08:57 PM IST
friendship in new color
भारत और रूस की आजमाई हुई दोस्ती समय के साथ कितने रंग बदल चुकी है, इसका आभास रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के हालिया भारत दौरे से मिलता है। यह दौरा न केवल बहुत संक्षिप्त था, बल्कि राजधानी में चल रहे आंदोलन ने भी उनकी यात्रा को कमोबेश फीका कर दिया। इसके बावजूद दोनों देशों के बीच हुए समझौते बहुत कुछ कह जाते हैं।

इसमें रूस से सुखोई-30 लड़ाकू विमानों के अलावा रात में सैन्य कार्रवाई करने में सक्षम हेलीकॉप्टरों की खरीद का सौदा तो शामिल है ही, निवेश को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त संघ गठित करने, विज्ञान व तकनीक के क्षेत्र में पारस्परिक सहयोग बढ़ाने और ऊर्जा क्षेत्र में सहयोग करने जैसे कदम शामिल हैं। सच यह है कि सोवियत संघ के विघटन के बाद से रक्षा सौदे के मामले में भारत की निर्भरता उस पर कम होती चली गई।

आज भारत सैन्य खरीद के मामले में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस और इस्राइल पर ज्यादा निर्भर है। बल्कि हाल के दौर में कई मामलों में भारत और रूस के बीच विवाद सतह पर उभरे हैं। एडमिरल गोर्शकोव मामले में हुई देरी और उसकी बढ़ती कीमत ने नई दिल्ली को परेशान किया, तो कुडनकुलम परियोजना के विस्तार पर उभरे मतभेद और 2 जी मामले में सिस्तेमा का लाइलेंस रद्द होने से मॉस्को हताश है।

ऐसे में, पुतिन के संक्षिप्त दौरे के बीच इतने समझौते क्या रूसी दबाव का नतीजा हैं! यह सच है कि हाल के वर्षों में नए दोस्तों के साथ हमारा व्यापार जितना बढ़ा है, रूस के साथ आर्थिक रिश्तों में उतना ही ठंडापन है। बीच में मास्को ने पाकिस्तान से रक्षा संबंध मजबूत करने की कोशिश की, लेकिन इस्लामाबाद चूंकि खरीदारी के बजाय मदद मांगने में ज्यादा यकीन करता है, इसलिए दोनों के रिश्ते उतने प्रगाढ़ नहीं हो पाए।

हमारे लिए रूस बेशक अकेला मददगार नहीं है, लेकिन उसके साथ मजबूत संबंध बनाए रखना जरूरी है, तो सिर्फ भौगोलिक नजदीकी के कारण नहीं, बल्कि ऊर्जा क्षेत्र में रूसी संभावनाएं भी काफी हैं। अफगानिस्तान में अपने हितों की सुरक्षा के लिए भी हमें उसका साथ चाहिए। दूसरी ओर, रूस को भी चाहिए कि वह शीतयुद्धकालीन मानसिकता से बाहर निकलकर भारत के साथ अपने संबंधों को परिभाषित करे।

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Related Videos

इस मराठी फिल्म का रीमेक लेकर आ रहे हैं करण जौहर, पोस्टर जारी

मराठी फिल्म 'सैराट' की रीमेक ‘धड़क’ 20 जुलाई को रिलीज हो रही है। इस बात की घोषणा फिल्म के प्रोड्यूसर करन जौहर ने की। इसके साथ ही करन जौहर ने धड़क का नया पोस्टर भी जारी किया है। जिसमें जाह्नवी और ईशान की रोमांटिक केमिस्ट्री भी दिख रही है।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper