विकास की विसंगतियों का चितेरा

नई दिल्ली Updated Fri, 12 Oct 2012 08:28 PM IST
Editorial on MO Yan
ख़बर सुनें
मो यान को मिला नोबल क्या वाकई चीन से नजदीकी बढ़ाने का पश्चिमी हथकंडा है, क्योंकि अब तक तो उन्हीं चीनी पर नोबल समिति ने कृपादृष्टि दिखाई है, जो कम्युनिस्ट तानाशाही के आलोचक रहे हैं! बेशक इस चर्चित लेखक ने निरंकुश सत्ता से तालमेल बनाकर चलने के लिए ही अपना नाम बदला, यह सच है कि सेंसरशिप को उन्होंने साहित्य सृजन के लिए वरदान माना, यहां तक कि माओ त्से तुंग द्वारा लेखकों के लिए तय किए दिशा-निर्देशों को भी उन्होंने सही ठहराया था, पर इससे उनके साहित्य का महत्व रत्ती भर कम नहीं होता।
मो यान की उपलब्धि यह है कि सत्ता-व्यवस्था से सीधा टकराव मोल लिए बगैर उन्होंने सांस्कृतिक क्रांति की असलियत, ग्रामीण चीन की बदहाली और विकास की विसंगतियों के प्रामाणिक चित्र खींचे। इसके लिए उन्होंने जो जटिल शैली चुनी, वह उनकी लेखकीय प्रतिबद्धता का ही सुबूत है। उनके उपन्यास समकालीन जीवन की बात करते हुए अचानक इतिहास की अतल गहराइयों में उतर जाते हैं।

लोककथाओं से जुड़ाव उन्हें विलियम फॉकनर के नजदीक ले जाता है, सामाजिक यथार्थवाद का चित्रण उन्हें ल्यू शुन के बराबर खड़ा करता है, तो यथार्थ को भ्रम और कल्पना के साथ गड्डमड्ड करने की उनकी शैली जादुई यथार्थवाद के जनक मार्खेज की याद दिलाती है। माओ त्से तुंग की सांस्कृतिक क्रांति उन्हें स्कूल से निकालकर किसानी, मजदूरी और चरवाहे की आजीविका तक ले गई थी, शायद इसीलिए उनकी रचनाओं में कहानी सुनाते पशु भी दिखते हैं।

पर उनका लेखन कम्युनिस्ट सत्ता की आंखों में धूल झोंकने वाला नहीं, बल्कि आंखों में उंगली डालकर सचाई दिखाने वाला है। उनकी प्रसिद्धि रेड सोरघम से ही हुई, जिसमें कम्युनिस्ट शासन के शुरुआती वर्षों में जापान के हमले और किसानों के कठोर जीवन का चित्रण है। रिपब्लिक ऑफ वाइन में चीन में बढ़ती शराबखोरी और भ्रष्टाचार का उन्होंने जैसा खुलासा किया है, वह हैरान करने वाला है।

इसी तरह फ्रॉग की उस नायिका को भला कौन भूल सकता है, जो थोपे गए परिवार नियोजन कार्यक्रम की कीमत एक के बाद एक गर्भपात के रूप में भुगतती है! अपनी विशिष्ट शैली के जरिये चीनी साहित्य की धारा बदल देने वाले लेखक को सम्मानित कर नोबल समिति ने ठीक ही किया है।

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Related Videos

टीआरपी की लिस्ट में दस का दम का हुआ ये हाल, शूटिंग जारी रखने में सलमान की घटी दिलचस्पी

सलमान खान की फिल्म रेस 3 का जादू दूसरे हफ्ते में ही बॉक्स ऑफिस पर उतरने लगा है। फिल्म को 150 करोड़ कमाने के लिए दूसरे हफ्ते का इंतज़ार करना पड़ा और इससे फिल्म इंडस्ट्री में नई सुगबुगाहट शुरू हो गई है।

24 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen