बंटवारे का दर्द और उपेक्षा

विनीता वशिष्ठ Updated Fri, 11 May 2012 12:00 PM IST
pain and neglectation of dividation of india pak
ख़बर सुनें
पाकिस्तान के हिंदू भारत लौटने को बेताब हैं। वो गुजारिश कर रहे हैं कि उन्हें भारत में शरण मिले। आखिर क्यों पाकिस्तान में बसे हिंदू भारत लौटना चाह रहे हैं। इतने सालों बाद आखिर ऐसा क्या हुआ है जो पाकिस्तान में बसे हिंदू भारत आना चाहते हैं, किसी भी शर्त पर। बंटवारे के समय पाकिस्तान में ही रुक गए लाखों हिंदुओं ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि ये दिन देखने पड़ेंगे। जो हिंदू ये सोचकर पाकिस्तान में बसे रह गए कि अवाम सिर आंखों पर बैठाएगी, वही अवाम हिंदुओं के साथ हो रहे अत्याचारों पर आंखें मूंदे हुए है। मीडिया रिपोर्ट्स चीख चीख कर कह रही है कि पाकिस्तान में हिंदू खुशहाल नहीं। दहशत, लूटपाट, जबरन वसूली, मारपीट, अपहरण, धर्म परिवर्तन से पाकिस्तान का हिंदू इस कदर टूट चुका है कि हर महीने यहां से हिंदू परिवार पलायन कर रहे हैं। जो बचे हैं वो भारत में पनाह लेने की गुजारिश कर रहे हैं।
पिछले कुछ सालों में जबरन वसूली और हिंदू लड़कियों के धर्म परिवर्तन के मामले बढ़े हैं। सवाल उठता है कि आखिर क्यों पाकिस्तान की सरकार अल्पसंख्यकों के साथ हो रहे अत्याचार पर चुप है। कहीं इसकी वजह भारत और पाकिस्तान की दुश्मनी तो नहीं। क्या पाकिस्तान बंटवारे का बदला अभी तक और इस तरह ले रहा है।

सवाल - क्या आपको लगता है कि पाकिस्तान में हिंदुओं की बदहाली के लिए सरकार जिम्मेदार है। क्या सभी हिंदुओं को भारत में जगह मिलनी चाहिए?

Spotlight

Most Read

Other Archives

शहरियों ने कटा दी नाक, सिर्फ 58.89 फीसदी मतदान

बिंदकी समेत अन्य ने की पूरी मेहनत, रहे अव्वल हथगाम ने इस बार भी बाजी मारी, पांच फीसदी उछला

30 नवंबर 2017

Other Archives

35 घायल

28 नवंबर 2017

Other Archives

अवैध कट

13 नवंबर 2017

Related Videos

VIDEO: यहां पैदा हुआ प्लास्टिक का बच्चा! वजह कर देगी हैरान

यूपी के श्रावस्ती में एक बच्चे के जन्म से सभी हैरान हैं, यहां तक की डॉक्टर भी। क्योंकि बच्चे की स्किन प्लास्टिक की है।

26 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen