जूते तो उतार लीजिए

विनीता वशिष्ठ Updated Tue, 01 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
Take the shoes

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
जूते पहन कर घर और मंदिर में जाना यहां सख्त नापसंद है। शहरों में भले ही मार्डन कल्चर के चलते जूते पहन कर घर में घुस जाते हों लेकिन गांवों में अभी भी जूते पहन कर घर में घुसना लोगों को नापसंद है। अगर आप जूते पहने ही किसी के घर में घुस गए तो सुनने को मिल सकता है - अरे अरे ऐसे कहां घुसे आ रहे हैं, जूते तो उतार दीजिए। मंदिर में अगर आपने ये गुस्ताखी की तो एक आध की डांट खानी पड़ सकती है।
विज्ञापन



भारतीयों को पसंद ना आने वाली इन बातों में आप ऐसी कौन सी बात जोड़ना चाहेंगे, जो पसंद नहीं की जाती?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us