विज्ञापन
विज्ञापन

जी के बॉस लाई डिटेक्टर टेस्ट पर असमंजस में

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Wed, 12 Dec 2012 12:53 AM IST
zee chief subhash chandra confused on lie detector test
ख़बर सुनें
जिंदल समूह से सौ करोड़ रुपये की उगाही के प्रयास के मामले में घिरे जी न्यूज के चेयरमैन सुभाष चंद्रा और जेल में बंद दोनों संपादक लाई डिटेक्टर जांच पर असमंजस में हैं। वे अभी यह भी तय नहीं कर पाए हैं कि आवाज के नमूने दें या न दें। देर रात तक वे अपने वकीलों से इन मुद्दों पर सलाह कर रहे थे।
विज्ञापन
सूत्रों के मुताबिक चंद्रा से उनके वकीलों ने इस बारे में उनकी राय जानने का प्रयास किया कि वे क्या सोचते हैं। वकीलों ने उन्हें कानूनी पहलुओं की जानकारी दी। उन्हें इस तथ्य से भी अवगत कराया कि सर्वोच्च अदालत के आदेशानुसार जांच एजेंसी उन्हें इसके लिए बाध्य नहीं कर सकती। जांच पूरी तरह उनकी रजामंदी पर ही निर्भर है।

इतना ही नहीं उनके वकीलों ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि यदि वे लाई डिटेक्टर जांच कराने से इनकार करते हैं तो अप्रत्यक्ष रूप से यह मामला ट्रायल में उनके खिलाफ भी जा सकता है। इसका कारण यह है कि जांच एजेंसी कहेगी कि यदि वे निर्दोष थे तो इस जांच से घबरा क्यों गए।

सूत्रों ने बताया कि चंद्रा वकीलों को बुधवार सुबह अपनी राय देंगे। बताया जा रहा है कि दोनों संपादक सुधीर चौधरी और समीर अहलूवालिया भी वही रुख अपनाएंगे जो उनके बॉस अपनाएंगे। इस मामले में जांच एजेंसी ने सोमवार को ही इन तीनों का लाई डिटेक्टर टेस्ट कराने के लिए अदालत में आवेदन दिया था।

जांच एजेंसी के अनुसार, पूछताछ के दौरान उनके बयानों में विरोधाभास सामने आया है और वे कई अहम तथ्यों को छिपा रहे हैं जिस कारण उनका टेस्ट करवाना जरूरी है। आवेदन पर 12 दिसंबर को सुनवाई होनी है।

क्या है व्यवस्था
सुप्रीम कोर्ट का साफ निर्देश है कि जांच एजेंसी किसी को भी लाई डिटेक्टर जांच के लिए मजबूर नहीं कर सकती। किसी व्यक्ति की रजामंदी से ही उस पर यह जांच की जा सकती है।
विज्ञापन

Recommended

बनाएं डिजिटल मीडिया में करियर, कोर्स के बाद प्लेसमेंट का भी मौका
TAMS

बनाएं डिजिटल मीडिया में करियर, कोर्स के बाद प्लेसमेंट का भी मौका

अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में संतान गोपाल पाठ और हवन करवाएं - 24 अगस्त 2019
Astrology Services

अपनी संतान की लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में संतान गोपाल पाठ और हवन करवाएं - 24 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

दिल्ली में 40 साल बाद सबसे बड़ी बाढ़ का खतरा, यमुना का पानी खतरे के निशान से ऊपर

दिल्ली में 40 साल बाद अब तक की सबसे बड़ी बाढ़ का खतरा सिर पर है। दिल्ली के मुख्ममंत्री अरविंद केजरीवाल ने आपात बैठक बुलाकर अधिकारियों को यमुना की तलहटी में रहने वाले हजारों लोगों की मदद करने और अलर्ट पर रहने का निर्देश दिया है।

19 अगस्त 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree