पढ़िए, चाय पैदा करने वाले श्रमिकों की दर्द भरी दास्तां

Praveen Dwivedi Updated Mon, 01 Dec 2014 09:09 AM IST
without money how can bagaan workers survive?
ख़बर सुनें
भारत में दार्जिलिंग चाय की कई मशहूर किस्में होती हैं। लेकिन हिमालय के दक्षिण में जहां घरेलू बाजार के लिए चाय उगाई जाती है, वहां अक्सर चाय बागान श्रमिक बेहद विकट स्थितियों में रहते हैं। चाय बागान के मजदूरों की विकट स्थितियां ही हैं जिसकी वजह से कभी-कभी प्रबंधन और मजदूरों के बीच हिंसा भी होती है।
कहीं-कहीं तो इन मजदूरों को महीनों-महीनों वेतन नहीं मिलता और न ही राशन दिया जाता है। हिमालय की तहलटी पर उत्तरी बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले में बसे विशाल सोनाली चाय बागान में डरावना सन्नाटा है। इसके मालिक का बंगला खाली है और कहीं भी कोई मज़दूर नजर नहीं आ रहा।

पिछले हफ्ते ही चाय बागान के मालिक राजेश झुनझुनवाला को उनकी दो मंजिला पुती हुई इमारत से निकालकर गुस्साए कर्मचारियों ने चाय की झाड़ियों के बीच पीट-पीटकर मार डाला था।
आगे पढ़ें

संघर्ष की जड़ आर्थिक है

Spotlight

Most Read

India News Archives

पहली बार बांग्लादेश की धरती से विद्रोहियों के ठिकाने पूरी तरह से साफ: BSF

भारत की पूर्वी सीमा पर दशकों से चले आ रहे सीमा पार विद्रोही शिविरों को लेकर एक अहम जानकारी आई है।

18 दिसंबर 2017

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen