बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

जब उसने बताया कि आखिर वो बीफ क्यों नहीं खाता

Updated Sun, 05 Apr 2015 10:34 AM IST
विज्ञापन
why does not he eat beef?

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
'गाय हमारी माता है, ग़फ़ूर उसको खाता है'। ये है वह नारा जो वर्ष 1975 में पूरे बिहार में गूँज रहा था। मेरे बड़े भाई के कानों में आज भी गूंजता है। इंदिरा गांधी और कांग्रेस के विरोध में देश के दूसरे राज्यों की तरह बिहार भी उठ खड़ा हुआ था। उस समय बिहार में कांग्रेस की सरकार थी और वहाँ के मुख्यमंत्री अब्दुल ग़फ़ूर थे।
विज्ञापन


मेरे बड़े भाई कॉलेज के छात्र थे और इस आंदोलन के साथ जुड़े हुए थे। लेकिन जब इस आंदोलन ने ज़ोर पकड़ा तो यह नारा सांप्रदायिक रंग में ढल गया। शायद अब्दुल ग़फ़ूर के मुसलमान होने के कारण!


'बीफ़ के कारोबार का धर्म से नहीं नाता'
मेरे भाई को लगा इस नारे में मुस्लिम विरोधी भावना छिपी है। वो आंदोलन में शामिल थे, लेकिन यह नारा नहीं लगाते थे। गोमांस को मुसलमानों से जोड़ना यह नारा या आंदोलन गाय के मांस खाने या गोहत्या पर पाबंदी के लिए नहीं था। लेकिन इससे एक बात साफ़ थी कि गाय का मांस खाने को मुस्लिम समुदाय से जोड़ा गया।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

'क्या सरकार शाकाहारी ब्राह्मण हो गई है?'

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us