खुफिया एजेंसियों को कामयाबी, आतंक की राह छोड़ेंगे 21 युवा

Sandeep Bhattसंदीप भट्ट Updated Tue, 13 Oct 2015 08:09 AM IST
विज्ञापन
The great success of intelligence agencies

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
सुरक्षा एजेंसियों ने हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हुए कश्मीर के 21 लड़कों की काउंसिलिंग कर उन्हें मुख्यधारा में वापस लाने में कामयाबी हासिल की है। ज्यादातर दक्षिणी कश्मीर के इन लड़कों के बारे में जम्मू-कश्मीर पुलिस और खुफिया एजेंसी आईबी को फेसबुक के जरिए जानकारी मिली।
विज्ञापन

गृह मंत्रालय के मुताबिक सीमा पर सख्ती की वजह से घुसपैठ में कमी आने के बाद से पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई स्थानीय लड़कों की भर्ती के लिए हिजबुल को मोटी रकम दे रहा है।
खुफिया एजेंसी के उच्चपदस्थ सूत्रों ने बताया कि घाटी के लड़के सीमा पार से आने वाले प्रशिक्षित लड़कों के मुकाबले कम आक्रामक और खतरनाक हैं। घाटी के लड़कों के लिए पैसा सबसे बड़ा आकर्षण है।
इस ऑपरेशन में शामिल अधिकारी के मुताबिक बेरोजगारी और गरीबी से परेशान इन लड़कों को हिजबुल में शामिल होकर इस संगठन की ताकत का अहसास भी होता है। इसके प्रदर्शन के लिए इनमें से कई लड़कों ने अपना स्टेटस फेसबुक पर दे दिया।

विज्ञापन
आगे पढ़ें

फेसबुक के जरिए लड़कों तक पहुंची पुलिस और आईबी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us