शंकराचार्य का दावा, ताजमहल के नीचे है महादेव मंदिर

Harendra Singh Moral Updated Thu, 09 Apr 2015 08:59 AM IST
sankracharya said that, Tajmahal is a lord shiva temple
ख़बर सुनें
साई का मुद्दा अभी थमा भी नहीं था कि ज्योतिष एवं द्वारका शारदापीठधीश्वर शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने ताजमहल के नीचे मंदिर होने की बात कहकर नई बहस छेड़ दी है। बुधवार को उन्होंने दावा किया कि ताजमहल के नीचे अग्रेश्वर महादेव नागनाथेश्वर विराजमान हैं।
इस बाबत अदालत में वाद भी दायर किया गया है। ऐतिहासिक तथ्यों के मुताबिक सन 1156 में राजा परमारदेव ने इस मंदिर का जीर्णोद्धार कराया और बाद में इसका स्वामित्व भी उन्ही के वंशजों के पास रहा लेकिन सन 1631-32 में शाहजहां ने इस पर कब्जा करते हुए अपनी मलिका मुमताज महल का स्मारक बनवा दिया।

पुरातात्विक साक्ष्य इसके हिन्दू मंदिर होने को प्रमाणित करते हैं, ऐसे में जरूरी है कि ताजमहल की निचली दो मंजिलों को खोला जाना चाहिए ताकि हिन्दू जनमानस वहां दर्शन और पूजा आराधना कर सके।

वहीं साई मुद्दे को आगे बढ़ाते हुए शंकराचार्य ने फिर दोहराया और दावा कि या कि  साईं मुसलमान थे। सो उनकी पूजा अर्चना करके हिन्दू जनमानस विधर्मी हो रहा है। शिर्डी साई ट्र्स्ट की ओर से दिए गए साक्ष्य भी उन्हें मोमिन साबित करते हैं।

मंदिरों से साईं की प्रतिमा को हटाने के लिए हिंदुओं को जागरूक करने में जुटे शंकराचार्य ने सनातन पद्धति से साईं की पूजा किए जाने और हिंदूओं के देवी देवताओं की तरह साईं के चित्रों का प्रकाशन बंद करने को कहा। इसी तरह साईं मंदिर ट्रस्ट को मिली धनराशि लातूर की पेयजल समस्या दूर करने में खर्च की जानी चाहिए।
आगे पढ़ें

पाठ्यक्रम में शामिल हो गीता, गौ हत्या पर लगे रोक

RELATED

Spotlight

Most Read

India News Archives

पहली बार बांग्लादेश की धरती से विद्रोहियों के ठिकाने पूरी तरह से साफ: BSF

भारत की पूर्वी सीमा पर दशकों से चले आ रहे सीमा पार विद्रोही शिविरों को लेकर एक अहम जानकारी आई है।

18 दिसंबर 2017

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen