विज्ञापन

राष्ट्रपति के बेटे के बयान पर भड़के लोग

नई दिल्ली/अमर उजाला ब्यूरो Updated Fri, 28 Dec 2012 01:20 AM IST
pranabs son sorry for remarks on anti rape protesters
विज्ञापन
ख़बर सुनें
दिल्ली में गैंगरेप पर भड़के जनता के गुस्से का पारा बृहस्पतिवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे और सांसद अभिजीत मुखर्जी के विवादास्पद बयान की वजह से सातवें आसमान पर पहुंच गया। गैंगरेप के विरोध में दिल्ली की सड़कों पर प्रदर्शन कर रही महिलाओं-छात्राओं पर अभिजीत ने आपत्तिजनक टिप्पणी कर डाली।
विज्ञापन
एक न्यूज चैनल से बातचीत में अभिजीत ने प्रदर्शनकारी महिलाओं पर टिप्पणी करते हुए कहा कि छात्रों के नाम पर रैलियों में आने वाली सुंदर महिलाएं अत्यधिक सजी-धजी होती हैं। मुझे उनके वास्तव में छात्राएं होने पर संदेह होता है। अभिजीत के इस बयान पर विवाद छिड़ गया। सबसे पहले उनकी बहन शर्मिष्ठा मुखर्जी ने ही उनके बयान पर दुख जता दिया।

मामला बिगड़ता देख उन्होंने अभिजीत की तरफ से माफी भी मांग ली। टीवी चैनलों से लेकर सड़कों पर जब विरोध के सुर तेज होने लगे और धरना प्रदर्शन भी होने लगे तो अभिजीत ने भी खुद अपना बयान वापस लेते हुए माफी मांगी। उन्होंने कहा कि वह उन सब से माफी मांगते हैं जिनकी भावनाएं उनके बयान से आहत हुई हैं। उनका इरादा किसी को ठेस पहुंचाने का नहीं था।

गैंगरेप को लेकर देशभर में भड़की गुस्से की आग को जहां केंद्र सरकार हर तरीके से पानी डालकर ठंडा करने में जुटी है तो वहीं अभिजीत के बयान ने इसमें घी का काम किया। महिला संगठन जहां सड़कों पर उतर आए तो टीवी चैनलों पर पूरी कांग्रेस पार्टी को ही कठघरे में खड़ा कर दिया गया। कांग्रेस ने भी उनके बयान से किनारा कर लिया। खुद अभिजीत की बहन शर्मिष्ठा ने चैनलों पर कहा कि मैं दुखी हूं। हर महिला और पुरुष से माफी मांगती हूं।

मेरे भाई ने जो कुछ कहा है, मैं उससे बहुत हैरान हूं। जब उनसे पूछा गया कि क्या अभिजीत को माफी मांगनी चाहिए तो उन्होंने कहा कि जरूर मांगनी चाहिए। न सिर्फ राष्ट्रपति के बेटे के रूप में बल्कि एक संवेदनशील व्यक्ति के रूप में उन्हें इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए था। शर्मिष्ठा ने कहा कि उनके पिता (राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी) भी अभिजीत के इस बयान से सहमत नहीं होंगे। राष्ट्रपति ने भी कुछ दिन पहले ही जनता के गुस्से को न्यायसंगत बताया था और वह भी ऐसी बात कह चुकी हैं।

छात्राओं के नाम पर रैलियों में सुंदर सुंदर डेंटेड-पेंटेड महिलाएं पहुंच रही हैं। दिल्ली में जो हो रहा है वो गुलाबी क्रांति है, जिसका जमीनी हकीकत से कोई लेनादेना नहीं है। पहले ये महिलाएं कैंडल लेकर जुलूस निकालती हैं और फिर शाम को डिस्कोथेक में जाती हैं। हम भी छात्र रहे हैं। हमें पता है कि छात्रों को कैसे रहना चाहिए।
अभिजीत मुखर्जी, कांग्रेस सांसद और राष्ट्रपति के पुत्र

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

अतिक्रमण पर 30 दुकानदारों का चालान

शहर में फैले अतिक्रमण के खिलाफ बुधवार को ट्रैफिक पुलिस व नगर पालिका ने संयुक्त अभियान चलाया।

14 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree