विज्ञापन

पाक को लड़ाकू हेलिकॉप्टर और मिसाइलें बेचेगा अमेरिका

एजेंसी/वाशिंगटन। Updated Wed, 08 Apr 2015 08:29 PM IST
pakistan and america armas deal
ख़बर सुनें
अमेरिका ने मंगलवार को पाकिस्तान के साथ करीब 5924 करोड़ रुपये के रक्षा सौदे को मंजूरी दी है। इसके तहत लड़ाकू हेलीकॉप्टर, मिसाइल और दूसरे रक्षा उपकरण पाकिस्तान को बेचे जाने की योजना है।
विज्ञापन
विज्ञापन
अमेरिका ने इस रक्षा सौदे को पाक को आतंकवाद के खात्मे में मदद करने के लिए मंजूर किया है। अमेरिका ने यह भी साफ किया है कि इस सौदे से क्षेत्रीय रक्षा संतुलन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा। हालांकि पाक-अमेरिका का यह सौदा भारत के लिए चिंता का विषय हो सकता है।

पाक सेना इन उपकरणों का उपयोग भारत के खिलाफ भी कर सकता है। सुरक्षा सचिव सहयोग एजेंसी ने एएच-1 जेड वाइपर लड़ाकू हेलीकॉप्टर, एजीएम-114आर हेलफायर मिसाइलें और दूसरे सहायक उपकरण पाक को बेचने के प्रस्ताव को अब कांग्र्रेस के पास भेजा है। एजेंसी ने कहा कि इससे पाक को आतंकवाद से लड़ने में मजबूती मिलेगी। इसके साथ ही इससे एजेंसी को दक्षिण एशिया में आतंकवादी विरोधी गतिविधियों पर अंकुश लगने की भी उम्मीद है। इससे अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा भी मजबूत होगी।

पाकिस्तान ने अमेरिका से 15 एएच-1जेड  हेलीकॉप्टर, एक हजार एजीएम-114आर हेलफायर मिसाइलें, 32 401सी इंजन और कंप्यूटर समेत अन्य उपकरणों की मांग की थी। एजेंसी ने बताया कि ये रक्षा उपकरण पाक को अधिक ऊंचाई पर और किसी भी तरह के मौसम में लड़ने में मदद करेगी। इनका उपयोग सेना दिन-रात कर सकेगी। यह सौदा पांच साल के अंतराल पर पूरा किया जाएगा। इसके तहत अमेरिका तकनीकी सहयोग के साथ ही पाक सेना को प्रशिक्षण भी देगा। दिसंबर में पेशावर स्कूल में आतंकियों द्वारा 150 से भी ज्यादा लोगों की हत्या करने के बाद पाक ने आतंकियों का सफाया करने का अभियान तेज किया है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

गोरखपुर स्पोर्ट्स कॉलेज बना चैंपियन

- रोमांचक फाइनल मुकाबले में पीएसी गाजियाबाद को हराया - विजेता टीम को खेल मंत्री चेतन चौहान ने किया पुरस्कृत

19 जनवरी 2019

विज्ञापन

हरदोई में प्रेमी युगल ने की खुदखुशी, बताई ये वजह

उत्तर प्रदेश के हरदोई में एक प्रेमी युगल की आत्महत्या का मामला सामने आया है।

18 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree