विज्ञापन
विज्ञापन

'पाक सैनिकों ने ही लड़ी थी कारगिल की जंग'

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क Updated Mon, 28 Jan 2013 08:11 AM IST
pak soldiers took part in kargil conflict says former pak gen
ख़बर सुनें
कारगिल युद्ध में अपने सैनिकों के शामिल होने से साफ इनकार करते रहे पाकिस्तान का सच आखिरकार दुनिया के सामने आ ही गया। पाकिस्तान की काली करतूत की असलियत का खुलासा किसी और ने नहीं बल्कि उसके ही एक पूर्व अधिकारी ने किया है।
विज्ञापन
पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की एनालिसिस विंग के तत्कालीन प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) शाहिद अजीज का कहना है कि 1999 में हुई कारगिल जंग में मुजाहिदीन ने नहीं बल्कि पाकिस्तान के नियमित सैनिकों ने हिस्सा लिया था। साथ ही उन्होंने तत्कालीन पाक सेना प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ पर भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने का भी आरोप लगाया।

अजीज ने समाचार पत्र ‘द नेशन डेली’ में छपे अपने लेख में कहा है कि कारगिल युद्ध में कोई मुजाहिदीन शामिल नहीं था। केवल वायरलेस पर झूठे संदेश भेजे गए थे लेकिन इससे किसी को बेवकूफ नहीं बनाया जा सका। हमारे सैनिकों को गोला बारूद और हथियारों के साथ बंकरों में बैठाया गया था। अजीज 2005 में सेना से रिटायर हुए। उन्होंने लिखा कि कारगिल की पूरी सच्चाई का बाहर आना अभी बाकी है। मुशर्रफ ने कारगिल की हकीकत को छिपाकर रखा।

पाक सेना के पूर्व अधिकारी ने लिखा है कि पाक सेना ने अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय परिस्थितियों को नजरअंदाज कर गलत अनुमानों और कम तैयारियों के साथ कारगिल जंग की योजना बनाई थी, जिसकी वजह से ये विफल हो गई। शायद इसी वजह से इसे इतना गोपनीय रखा गया था। पाकिस्तान का मकसद सियाचिन के लिए सप्लाई लाइन पर कब्जा कर भारतीय सैनिकों को वहां से खदेड़ना था।

पाकिस्तानी सेना को भारत से इतने आक्रामक अंदाज में जवाबी कार्रवाई किए जाने की उम्मीद नहीं थी। कारगिल जंग के वक्त अजीज आईएसआई के एनालिसिस विंग के प्रमुख थे और इसलिए उन्हें जंग के बारे में पूरी जानकारी थी। अजीज का कहना है कि सैनिकों को पाकिस्तानी सेना के वरिष्ठ कमांडरों ने समझाया था कि भारत की ओर से जवाबी कार्रवाई नहीं की जाएगी लेकिन भारत की ओर से आक्रामक थल और वायु सेना के हमलों की वजह से पाक सैनिकों को पीछे हटना पड़ा।

इस साल की शुरुआत में 8 जनवरी को पाकिस्तानी सैनिकों ने एलओसी पर घुसपैठ कर दो भारतीय सैनिकों की हत्या कर दी। इनमें से एक का सिर काटकर ले गए। इसके अलावा एलओसी पर पाक सेना द्वारा बारूदी सुरंग बिछाने की साजिश का भी पर्दाफाश किया गया लेकिन पाकिस्तान इन दोनों ही करतूतों में अपना हाथ होने से इनकार करता रहा है।

कारगिल जंग मई और जुलाई 1999 के बीच हुई थी। इसमें करीब 30 हजार भारतीय सैनिक शामिल हुए थे, जबकि पाकिस्तान की ओर से पांच हजार घुसपैठिए (सैनिक) शामिल थे। भारत ने घुसपैठियों को खदेड़ने के लिए ‘ऑपरेशन विजय’ अभियान चलाया था।
विज्ञापन

Recommended

पीरियड्स है करोड़ों लड़कियों के स्कूल छोड़ने का कारण
NIINE

पीरियड्स है करोड़ों लड़कियों के स्कूल छोड़ने का कारण

विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019
Astrology Services

विनायक चतुर्थी पर सिद्धिविनायक मंदिर(मुंबई ) में भगवान गणेश की पूजा से खत्म होगी पैसों की किल्लत 30-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

समस्तीपुर से प्रिंस राज और सतारा से दादासाहेब पाटिल जीते

बिहार की समस्तीपुर लोकसभा सीट पर लोजपा प्रत्याशी प्रिंस राज ने कांग्रेस के डॉ अशोक कुमार को 1,02,090 वोटों से मात दी। इस सीट से 2014 में राम विलास पासवान के भाई रामचंद्र पासवान ने जीत दर्ज की थी। उनके निधन के बाद इस सीट पर उपचुनाव हो रहे हैं। 

24 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

गोरखपुर: नीर निकुंज वाटर पार्क के दो साझेदारों रोहित और दीपक अग्रवाल का ऑडियो वायरल

गोरखपुर में क्या वाकई जीडीए की शह पर नीर निकुंज वाटर पार्क के साझेदार रोहित को जबरन पुलिस उठा ले गई थी? शहर के बड़े व्यवसायी और पार्क के साझेदार रोहित अग्रवाल और साझेदार दीपक अग्रवाल की बातचीत का ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा

21 नवंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election