विज्ञापन
विज्ञापन

LIC घोटाले में 6 करोड़ रुपये का घपला

लखनऊ/अमर उजाला ब्यूरो Updated Fri, 14 Sep 2012 03:33 PM IST
6 crore scam revealed in lic
ख़बर सुनें
एलआईसी के ही कुछ कर्मचारियों ने निवेशकों की पॉलिसी मैच्योर होने के बाद उनका भुगतान किसी और को कराकर करोड़ों रुपयों की बंदरबांट कर ली। पांच साल के दौरान कुल पांच करोड़ 99 लाख रुपए के वारे-न्यारे किए गए।
विज्ञापन
विज्ञापन
इस मामले की जांच में सीबीआई ने बृहस्पतिवार को कुल नौ जगहों पर छापामारी की। इसमें लखनऊ में सात जगह और बलरामपुर व कानपुर जिले में एक-एक जगह पर छापे मारे। सीबीआई ने इस मामले में एलआईसी के 17 कर्मचारियों के अलावा 17 निजी लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

एलआई में कई निवेशकों की पॉलिसी के भुगतान अनजाने लोगों के नाम कर दिए जाने की शिकायत आने पर सीबीआई लखनऊ परिक्षेत्र की भ्रष्टाचार निवारण शाखा मामले की जांच कर रही थी। इस सिलसिले में सीबीआई की टीमों ने बृहस्पतिवार को एलआईसी की जानकीपुरम शाखा के हायर ग्रेड एसिस्टेंट पंकज सक्सेना के एमडीएच सेक्टर एम, जानकीपुरम स्थित आवास पर छापा मारा। पंकज सक्सेना घोटाले का मास्टरमाइंड था।

लखनऊ में इसके अलावा दूसरों की पॉलिसी की मैच्योरिटी का चेक अपने खाते में भुनाने वाले समीर जोशी व उनकी पत्नी अंजू जोशी के वाल्मीकी मार्ग, लालबाग स्थित आवास, सेक्टर एच, जानकीपुरम निवासी प्रेमशंकर उपाध्याय, कुम्हरावां, इटौंजा निवासी उमाशंकर सिंह, सेक्टर एच, जानकीपुरम निवासी कृष्णकांत सिंह, सहारा स्टेट निवासी सचिन मेहरोत्रा और निरालानगर निवासी विमलेश सक्सेना के यहां छापामारी की।

इन सभी के यहां से बैंक खातों से संबंधित दस्तावेज व अन्य आवश्यक कागजात बरामद किए गए। कानपुर में 202 लखनपुर, अवधपुरी निवासी संगीता सक्सेना और बलरामपुर में उतरौला निवासी जितेंद्र कुमार के यहां भी छापा डाला गया।

प्रेम शंकर व उनकी पत्नी के नाम से सर्वाधिक दो करोड़ 50 लाख रुपए का भुगतान हुआ। पंकज सक्सेना ने एलआईसी के कुछ अन्य कर्मचारियों से मिलीभगत कर कुल 28 लोगों के नाम से 212 चेकों के जरिए दूसरे निवेशकों की पॉलिसी की मैच्योरिटी का भुगतान कराया।

सालों से चल रहे घोटाले ने तूल तब पकड़ा जब कुछ निवेशकों ने अपनी पॉलिसी की मैच्योरिटी अवधि पूरा होने पर पड़ताल की और उन्हें पता चला कि उनका भुगतान एलआईसी मुख्यालय से आ चुका है और किसी अन्य के नाम से चेक काट कर भुगतान चला गया है।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा,  पाएं पूरा समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
ज्योतिष समाधान

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा, पाएं पूरा समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

अस्पताल में मरीज ने तोड़ा दम, इमरजेंसी गेट पर शव रखकर हंगामा

जिला अस्पताल में आयुष्मान वार्ड में उपचार करा रहे मरीज की मौत हो गई। परिजन इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे। कुछ देर में इमरजेंसी गेट पर शव रखकर रास्ता बंद कर दिया।

21 मई 2019

विज्ञापन

कांग्रेस का सीएम त्रिवेंद्र पर बड़ा हमला, दिखाई करीबी के स्टिंग की वीडियो

मंगलवार को कांग्रेस ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर सीधा और बड़ा हमला किया। कांग्रेस ने व्यवसायी संजय गुप्ता और सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के करीबी रिश्तों का जिक्र किया और दोनों को बिजनेस पार्टनर बताया।

21 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election