मायावती ने पूछा, क्यों बदले गए जिलों के नाम?

Varun Kumar Updated Mon, 13 Aug 2012 03:57 PM IST
mayawati asked why districts name got changed
ख़बर सुनें
संसद के मानसून सत्र का आगाज हंगामे के साथ हुआ। विपक्ष के हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही कुछ देर स्थगित होने के बाद फिर शुरू हुई। राज्यसभा में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कुछ लोग दलित नेताओं का अपमान कर रहे हैं और सरकार कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।
यूपी सरकार पर अप्रत्यक्ष रूप से निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि सरकार जवाब दे कि आखिर क्यों सूबे के जिले के नाम बदले गए? बाद में हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दो बजे तक स्थगित कर दी गई। वहीं लोकसभा में भी असम हिंसा को लेकर विपक्षी सदस्यों ने हंगामा किया।

इससे पहले प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि सरकार संसद के नियमों और परंपराओं के अनुसार किसी भी विषय पर बहस कराने के लिए तैयार है। प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि विपक्ष दोनों सदनों में सरकारी कामकाज को पूरा करने में हरसंभव मदद करेगा।

डिंपल और राजा मोहन ने शपथ ली
समाजवादी पार्टी की डिंपल यादव और वाईएसआर कांग्रेस के एम राजा मोहन रेड्डी ने बुधवार को लोकसभा सदस्यता की शपथ ली। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल कन्नौज उपचुनाव में निर्विरोध निर्वाचित हुई थी। वहीं रेड्डी ने आंध्र प्रदेश के नेल्लोर लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस के टी सुब्बीरामी रेड्डी को हराया था।

Spotlight

Most Read

India News Archives

पहली बार बांग्लादेश की धरती से विद्रोहियों के ठिकाने पूरी तरह से साफ: BSF

भारत की पूर्वी सीमा पर दशकों से चले आ रहे सीमा पार विद्रोही शिविरों को लेकर एक अहम जानकारी आई है।

18 दिसंबर 2017

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं।आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते है हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen