विज्ञापन

प्रणब दा ने पार की रायसीना की एक और बाधा

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Tue, 19 Jun 2012 12:00 PM IST
pranab-crosses-one-more-barrier-to-Raisina-Hill
विज्ञापन
ख़बर सुनें
‎राष्ट्रपति चुनाव के सियासी थ्रिलर में आखिरकार पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने अपना कदम पीछे खींच लिया है। इसी के साथ रायसीना हिल्स की बाजी लगभग पूरी तरह से यूपीए उम्मीदवार प्रणब मुखर्जी की तरफ पलट गई है। प्रणब दा के समर्थन की आंधी से अब प्रमुख विपक्षी गठबंधन एनडीए भी डोलने लगा है। राजग के घटक दल जद-यू, अकाली दल और शिवसेना दादा के इर्दगिर्द जुटते नजर आ रहे हैं।
विज्ञापन
उधर, कलाम के मैदान से हटने के ऐलान से प्रणब की राह रोकने के मंसूबे लेकर चल रहीं ममता बनर्जी को करारा झटका लगा है। अब दादा की राह में सिर्फ पीए संगमा की जिद आड़े आ रही है। बहरहाल, संगमा को दादा की राह से हटने को राजी करने के लिए उनकी पार्टी एनसीपी ने कोशिश शुरू कर दी है। कांग्रेस के रणनीतिकार भी इस काम में जुट गए हैं।

मिसाइल मैन एपीजे अब्दुल कलाम के विशाल कद के दम पर यूपीए को झुकाने का मकसद लेकर आगे बढ़ रहे सियासी दलों को सोमवार को भारी झटका झेलना पड़ा। कलाम ने प्रेस बयान जारी कर कहा कि उन्होंने न तो कभी एक और कार्यकाल की इच्छा व्यक्त की थी और ही राष्ट्रपति चुनाव लड़ने में उनकी दिलचस्पी है।

कलाम ने कहा कि ममता बनर्जी और अन्य कुछ राजनीतिक पार्टियां चाहती थीं कि मैं उम्मीदवार बनूं। बड़ी संख्या में लोगों ने भी ऐसी इच्छा व्यक्त की है। मैं इन सभी का आभारी हूं। चुनाव न लड़ने की वजह बताते हुए पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने इस मामले को संपूर्णता में देखा और मौजूदा राजनीतिक स्थिति को देखते हुए 2012 के राष्ट्रपति चुनाव में भाग नहीं लेने का फैसला किया।

इससे पहले भाजपा ने उन्हें मैदान में उतारने की भरसक कोशिश की। पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने दो बार अपने राजनीतिक दूत सुधींद्र कुलकर्णी को कलाम के पास भेजा। आडवाणी और कलाम के बीच फोन पर बातचीत भी हुई। सूत्रों के मुताबिक कलाम ने बहुमत मिलता नहीं दिखने की वजह से मैदान में नहीं उतरने की अपनी इच्छा से आडवाणी को अवगत करा दिया।

वैसे भी राष्ट्रपति चुनाव को लेकर राजग नेता एकमत नहीं हैं। उधर, प्रणव दा ने राजग के घटक दल शिवसेना के सुप्रीमो बाल ठाकरे को फोन कर समर्थन की अपील की है। इसके बाद से शिवसेना का रुख दादा की ओर होता दिख रहा है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

कच्चे तेल के भंडार की संभावना पर लगाया जीपीएस

गंगा के तराई वाले इलाकों में कच्चे तेल के भंडार की तलाश कर रही ऑयल एंड नेचुरल गैस कमीशन (ओएनजीसी) की टीम ने तीन दिन में पांच किमी के दायरे में दो स्थानों पर डीप बोरिंग करने के बाद बांगरमऊ के अलेलखेड़ा गांव के पास अपना जीपीएस सिस्टम स्थापित किया।

14 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree