विज्ञापन
विज्ञापन

इस हिंदी को समझें भी तो कैसे?

लखनऊ/ब्यूरो Updated Fri, 14 Sep 2012 01:00 PM IST
how to understand this kind of hindi
ख़बर सुनें
हम हिंदी में लिखे चेक का स्वागत करते हैं, हम हिंदी में भरे गए आवेदन पत्रों को सहर्ष स्वीकार करते हैं, आप हमसे हिंदी में पत्र व्यवहार कर सकते हैं, हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है, हिंदी को अपनाएं- बैंकों या सरकारी कार्यालयों में लगी ऐसी पंक्तियां किसी भी हिंदी प्रेमी को उत्साह से भर देती हैं, लेकिन अगर आप ऐसी जगहों पर हिंदी में कामकाज करने की कोशिश करें तो आपको तमाम मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। हिंदी के फार्म इस हद तक दुरुह होते हैं कि आपको या तो अंग्रेजी से मिलान कर उन्हें समझने की कोशिश करनी होती है या फिर कर्मचारियों की मदद लेनी होती है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सरकारी कार्यालयों में ऐसी हिंदी के कुछ उदाहरण देखिए- जीवित और भयमुक्त रहने के लिए सिद्धता चाहिए, हमें जमा राशियों की सन्निकट देय तिथि की सूचना दस्ती सुपुर्दगी द्वारा नहीं चाहिए, जमाराशि को प्रोद्भूत ब्याज के साथ परिपक्वता तिथि पर उसी अवधि के लिए प्रभावी ब्याज की दर पर स्वत: नवीकृत करें, मैं उक्त शर्तों और अनुबंधों से आबद्ध रहना स्वीकार करता हूं और सहमत हूं, जिसमें आपके उन सीमित दायित्वों को अलग करना भी सम्मिलित है, नामिती की ओर से मेरी अवयस्क की अवयस्कता के दौरान मृत्यु की दशा में उक्त खाते में जमाराशि को प्राप्त करने के लिए नियुक्त करता हूं, निवेशी ने साक्ष्य के तौर पर प्रस्तुत विलेख पत्र उपरोक्त दिन, माह एवं वर्ष को निष्पादित कर दिया।

वैसे, फार्मों की ही क्यों कहें, जगह-जगह लगी सूचनाएं में भी ऐसी ही हिंदी का प्रयोग दिखता है। हम हिंदी की हंसी उड़ाने के लिए अक्सर बताए जाने वाले ट्रेन के हिंदी नाम लौहपथगामिनी का प्रयोग तो नहीं करते, लेकिन जगह-जगह ऊपरगामी सेतु या ऐसे कठिन प्रयोग भी लोगों को अचरज में डालने के लिए पर्याप्त हैं। हिंदी के कई विद्वान मानते हैं कि हिंदी का प्रयोग भी सत्य बोले, प्रिय बोले की तर्ज पर होना चाहिए।

हिंदी का प्रयोग करने के उत्साह में ऐसी भाषा का प्रयोग नहीं होना चाहिए, जो आम जन की समझ और पहुंच के बाहर हो और जिसके लिए शब्दकोश लेकर बैठना पड़े। हालांकि इसमें कुछ मतभेद भी है। कुछ विद्वान यह भी कहते हैं कि अगर हम सरलीकरण ही करते रहे तो बहुत सारे शब्द हमारे प्रयोग से बाहर हो जाएंगे।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा,  पाएं पूरा समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
ज्योतिष समाधान

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा, पाएं पूरा समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

अस्पताल में मरीज ने तोड़ा दम, इमरजेंसी गेट पर शव रखकर हंगामा

जिला अस्पताल में आयुष्मान वार्ड में उपचार करा रहे मरीज की मौत हो गई। परिजन इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा करने लगे। कुछ देर में इमरजेंसी गेट पर शव रखकर रास्ता बंद कर दिया।

21 मई 2019

विज्ञापन

कांग्रेस का सीएम त्रिवेंद्र पर बड़ा हमला, दिखाई करीबी के स्टिंग की वीडियो

मंगलवार को कांग्रेस ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर सीधा और बड़ा हमला किया। कांग्रेस ने व्यवसायी संजय गुप्ता और सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के करीबी रिश्तों का जिक्र किया और दोनों को बिजनेस पार्टनर बताया।

21 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election