विज्ञापन
विज्ञापन

देश में चल रहा है सास-दामाद का सीरियल: मोदी

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क Updated Fri, 16 Aug 2013 10:30 AM IST
narendra modi speech on independence day
ख़बर सुनें
गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर सभी देशवासियों को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस पर करारा 'हमला' बोला। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री एक ही परिवार के भक्त बन गए हैं।
विज्ञापन
मोदी ने भुज के लालन कॉलेज में तिरंगा फहराया और सभी महापुरुषों को स्मरण किया। उन्होंने देशवासियों से सवाल किया कि क्या आजादी के दिवानों के सपने पूरे हुए हैं? क्या हम मानसिक गुलामी में जकडे़ नहीं हैं?

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ने भ्रष्टाचार पर चिंता जताई है उम्मीद थी कि पीएम इस पर कुछ बोलेंगे लेकिन उनसे नाउम्मीदी ही मिली। भ्रष्टाचार से लड़ना बहुत जरूरी है।

उन्होंने कहा कि पहले भ्रष्टाचार के लिए एक शब्दावली चलती थी भाई भतीजावाद। फिर आया मामा-भांजा और अब देश में चल रहा है सास-बहू-दामाद का सीरियल।

लाल किले से प्रधानमंत्री ने पेश किया यूपीए का रिपोर्ट कार्ड

उन्होंने कहा कि देश को आजादी के बाद यह बात महसूस हो रही है कि हम मानसिक गुलामी से कैसे बाहर निकलें? इससे बाहर निकलने की जरूरत है। देशवासी पिछले 60 साल से रटी रटाई बातें सुनकर ऊब चुके हैं।

'पीएम एक ही परिवार के भक्त'
मोदी ने प्रधानमंत्री के भाषण की कड़ी आलोचना की। उन्होंने कहा कि वह पीएम का भाषण सुन रहे थे ताकि उससे कुछ काम करने का जज्बा मिले, कुछ सीख मिले। उनके भाषण से कुछ संदेश की उम्मीद थी। लेकिन निराशा ही हाथ लगी।

मशहूर हस्तियां: ऐसे मनाते थे स्वतंत्रता दिवस

उन्होंने कहा कि बहुत दुख की बात है कि पीएम लाल किले से सिर्फ एक ही परिवार को याद करते हैं। जब आप नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी का जिक्र कर रहे थे तो क्या लाल बहादूर शास्त्री का जिक्र कर नहीं सकते थे। उन्होंने जय जवान, जय किसान का नारा दिया। आपने उनको याद क्यों नहीं किया? सरदार पटेल, जिन्होंने कांग्रेस को पूरा जीवन समर्पित कर दिया, उनका भी आपने नाम नहीं लिया। इस बात पर दुख होता है। आपने एक ही परिवार का जिक्र क्यों किया?

लाल किला पर आजादी का जश्न
आपने तो उत्तराखंड पर सिर्फ कुछ लोगों को सराहा लेकिन आप पूरे देशवासियों की मदद की भावना को भूल गए। लेकिन आप तो एक ही परिवार के भक्त हो गए तो फिर चिंता जाहिर है।

बेड़ियों से आजाद होने को तड़पती आधी आबादी

'गरीबों की थाली में छिड़क रहे हैं एसिड'
उन्होंने कहा कि खाद्य सुरक्षा पर कुछ बातें हैं जिस पर चर्चा करनी हैं लेकिन वो तैयार नहीं हैं। दिल्ली में बैठे लोग गरीब की थाली में खाना नहीं, एसिड छिड़क रहे हैं, नमक छिड़क रहे हैं। कोई कहता है दो रुपए में भर पेट खाना मिलता है तो कोई पांच रुपए में।

मोदी ने कहा कि पीएम जी, देश के आखिरी छोर पर बैठे आदमी को योजनाओं को लाभ कैसे मिले? इस पर विचार करने की जरूरत है। कांग्रेस और उसकी सहयोगी सरकारें इंदिरा गांधी की योजनाओं को लागू करने में नाकाम रही हैं, जबकि भाजपा और सहयोगी दलों की सरकारें उनसे बेहतर हैं।

मोदी ने कहा कि वह राष्ट्र के नाम संबोधन में राष्ट्रपति जी की पीडा़ समझते हैं। देश के शासक इस पीडा़ का जवाब दे पाएंगे या नहीं, वह नहीं जानते। राष्ट्रपति की चिंता यह है कि शासक दल ससंद को चलने नहीं दे रहा।

आजादी के 66 साल: मुट्ठी से निकला प्याज, मिला मोबाइल

तय करनी होगी सहनशक्ति की सीमा
राष्ट्रपति ने पाक की हरकतों पर चिंता जताते हुए कहा है कि सहनशक्ति की भी सीमा होती है इस पर मोदी ने कहा कि उन्हें उम्मीद थी कि पीएम राष्ट्रपति की पीड़ा को समझते और जवाब देते, लेकिन उनके भाषण से निराशा हुई।

उन्होंने कहा कि सीमा पर देश के जवान शहीद हुए हैं, सेना के मनोबल को बढा़ने की जरूरत है। लाल किला पाकिस्तान को ललकारने की जगह नहीं है लेकिन जवानों के हौसलों को बढा़ने के लिए एक सही जगह है। सहन की सीमा क्या होनी चाहिए यह तो दिल्ली में बैठे नेता को तय करना होगा।

भगत सिंह के वंशजों से मिलने की गृह मंत्री को नहीं फुरसत

मोदी ने कहा कि इटली के सैनिक हमारे मछुआरों को मार देते हैं, चीन अतिक्रमण कर लेता और पाक हमारे जवानों का सिर काट लेता है तब सरकार को चिंता होती है। सहनशीलता की सीमा तो हमें ही तय करनी होगी।

'कांग्रेस की दुनिया तो मोदी तक'
उन्होंने कहा कि पीएम जी आज देश की मांग है कि हम स्पर्धा करें। जब तिरंगा लहरा रहा है तो आपकी एक ब्रिगेड कंप्यूटर पर मोदी को गाली देने में लगी है। अरे, आज तो जन गण मन का गान कर लो। कांग्रेस की दुनिया तो मोदी तक सिमट गई है।

पीएम जी, काम में कमियां हो सकती हैं इरादों में नहीं होनी चाहिए। अटल-आडवाणी के राज में लोगों में विश्वास पैदा हो गया था कि देश बुलंदियों को छू लेगा। लेकिन 2004 के बाद से देश गड्ढे में चला गया है।
विज्ञापन

Recommended

पीरियड्स है करोड़ों लड़कियों के स्कूल छोड़ने का कारण
Niine

पीरियड्स है करोड़ों लड़कियों के स्कूल छोड़ने का कारण

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Crime Archives

यूपी: रामलीला मंच पर डांस करने को लेकर विवाद, गोलीबारी में किशोर घायल

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में रामलीला में डांस को लेकर लोगों में जमकर मारपीट हो गई। झगड़ा इतना बढ़ गया कि इस दौरान रामलीला मंच पर तोड़फोड़ कर दी और फायरिंग भी हुई। फायरिंग करते समय छर्रा लगने से एक किशोर घायल हो गया...

15 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

LIVE: महाराष्ट्र और हरियाणा के नतीजे

हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा के नतीजे आज आने हैं। वोटों की गिनती जारी है।

24 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election