बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

शनि को होने वाले चंद्र ग्रहण से क्यों फैला भय?

एजेंसी/ लंदन Updated Thu, 02 Apr 2015 04:42 PM IST
विज्ञापन
Moon will look reddish on full Lunar eclipse

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
जो लोग मानते हैं कि अंधविश्वास केवल भारत या एशिया के देशों में ही फैला है वो गलत हैं। इस बार शनिवार को पड़ने वाला पूर्ण चंद्रग्रहण उत्तरी अमेरिका, एशिया और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा। इस दिन चंद्रमा लाल रंग का दिखाई देगा, जिसे बाइबिल में ब्लड मून का नाम दिया गया है।
विज्ञापन


पश्चिमी देश इस ब्लड मून को लेकर दुनिया में कई नाटकीय बदलाव होने की आशंका व्यक्त कर रहे हैं, जबकि नासा ने कहा है कि इसका कोई बुरा असर दुनिया पर नहीं पड़ेगा।


नासा ने कहा कि चंद्रग्रहण के दौरान चंद्रमा अक्सर लाल रंग का दिखाई देता है क्योंकि सूर्य की किरणें पृथ्वी के वातावरण से होते हुए गुजरती हैं और यह प्रक्रिया सूर्य के नीले रंग के प्रकाश को फिल्टर कर देती हैं।

अत: इसका कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ने वाला है। नासा ने कहा कि इसके नामकरण में इसे ब्लड मून कहा गया है इसलिए इसका अर्थ धर्मशास्त्री बुरे संदर्भ में निकाल बैठे हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

इस घटना का उल्लेख बाइबिल में भी

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us