'हिंदू थे भारत में ज्यादातर मुसलमानों के पूर्वज'

Dharmendra Kumarधर्मेन्द्र कुमार Updated Wed, 14 Oct 2015 08:00 AM IST
विज्ञापन
mohan bhagwat statement about hindu muslim

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने कहा कि उन्होंने कभी आरक्षण का विरोध नहीं किया। उनके बयान को गलत ढंग से पेश किया गया और उनकी बातों के गलत अर्थ निकाले गए।
विज्ञापन

उन्होंने कहा कि वह सिर्फ पात्रों को आरक्षण देने के पैरोकार हैं। चाहे वह किसी जाति का हो। आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए और जातिगत आधार की जगह पिछड़े और संसाधनहीन लोगों को आरक्षण का लाभ दिया जाना चाहिए।
गोरखपुर में पांच दिन के प्रवास के आखिरी दिन मंगलवार को भागवत ने कुछ समय शहर के प्रमुख लोगों के बीच गुजारा। सिविल लाइंस स्थित गोकुल भवन में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान लोगों के सवालों के जवाब भी दिए।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

'गिनती के ही मुसलमान बाहर से आकर भारत में बसे'

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us