मोदी के जयापुर गांव का छुपा हुआ सच, आप भी जानिए

Harendra Singh Moral Updated Fri, 03 Apr 2015 03:05 PM IST
Modi's favorite village youth, said,
ख़बर सुनें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गोद लिए गांव जयापुर का एक बड़ा वर्ग गांव में हो रहे बदलाव से खुश नहीं है। उन्हें लगता है कि एलईडी बल्ब मिल जाने, सोलर लाइट लग जाने और टॉयलेट बन जाने से उनकी जिंदगी में कोई बड़ा बदलाव नहीं आने वाला।
उन्हें रोजगार चाहिए। वहीं जयापुर से सटे गांवों में अब यह सोच घर करती जा रही है कि जयापुर उस दिन आदर्श गांव कहलाएगा जब उसके आसपास के गांव भी उसकी तरह ही विकसित और खुशहाल होंगे।

गांव की दलित बस्ती के अनिल इंटरमीडिएट के छात्र हैं। विज्ञान के इस छात्र ने कहा कि जब मोदी जी ने इस गांव को गोद लिया तो हम सबको उम्मीद थी कि गांव में कल-कारखाने लगेंगे, ढेर सारे लोगों को रोजगार मिलेगा।
आगे पढ़ें

टायलेट पार्क से नहीं दूर होगी हमारी गरीबी

Recommended

Spotlight

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree