विज्ञापन

अब बाबू लाल मरांडी ने भी तोड़ा यूपीए से नाता

नई दिल्ली/अमर उजाला ब्यूरो Updated Sat, 13 Oct 2012 09:12 PM IST
विज्ञापन
Jharkhand Vikas Morcha formally withdraws support from UPA
ख़बर सुनें
तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के बाद अब बाबू लाल मरांडी ने भी केंद्र सरकार का साथ छोड़ दिया है। झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) सुप्रीमो ने शनिवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से मुलाकात कर सरकार से समर्थन वापसी का पत्र सौंपा। दो सांसदों वाली झाविमो के समर्थन वापस लेने के बाद यूपीए-दो में अब 252 सदस्य ही रह गए हैं। इसके बावजूद केंद्र सरकार अल्पमत में नहीं आई है क्योंकि उसे सपा और बसपा का बाहर से समर्थन हासिल है।
विज्ञापन
मरांडी ने बताया कि केंद्र की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ उनकी पार्टी ने सरकार से समर्थन वापसी की घोषणा एक अक्तूबर को ही कर दी थी, जिसकी औपचारिकता अब पूरी कर दी गई है। उन्होंने कहा कि झाविमो कांग्रेस और भाजपा दोनों से समान दूरी बनाते हुए जनता के बीच जाकर भ्रष्टाचार और महंगाई के खिलाफ आंदोलन करेगी। पार्टी ने केंद्र की नीतियों और राज्य में फैले भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन का मसौदा तैयार कर लिया है और जल्द ही इसकी घोषणा की जाएगी।

उन्होंने कहा कि केंद्र की जनविरोधी नीतियों की वजह से राज्य और देश में जो परिस्थितियां उत्पन्न हुई हैं, वह जग जाहिर है। कांग्रेस के नेतृत्व में बनी सरकार को झाविमो ने धर्मनिरपेक्षता के नाम पर अपना समर्थन दिया था लेकिन विगत दो साल के अंतराल में वर्तमान सरकार के भ्रष्टाचार के कई कारनामे उभर कर सामने आए हैं। इसमें 1.70 लाख करोड़ का टूजी स्पेक्ट्रम घोटाला, 1.86 लाख करोड़ का कोल ब्लॉक आवंटन घोटाला के अलावा कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला मुख्य है। केंद्र सरकार की गलत नीतियों के कारण खाद्य महंगाई चरम पर है।

इसके बावजूद सरकार कीमतों को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक कदम उठाने के बजाए उल्टे दुनिया के बाजार मूल्य का बहाना बनाकर डीजल, पेट्रोल एवं रसोई गैस की कीमत बढ़ाने का काम कर रही है। देश की बिगड़ी आर्थिक स्थिति को सुधारने के नाम पर एफडीआई को मंजूरी देकर सरकार ने बेरोजगारी बढ़ाने और अर्थ व्यवस्था को गुलामी के रास्ते पर ले जाने की साजिश की है। वहीं राज्य की भाजपा सरकार भी केंद्र के ही नक्शे कदम पर चल रही है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us