मिलिए एक हिंदू से जो हर बार रखता है रोजे

अमिताभ भट्टासाली /बीबीसी संवाददाता, कोलकाता से Updated Tue, 29 Jul 2014 04:22 PM IST
विज्ञापन
hindu who has fast

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
कोलकाता के 71 वर्षीय संजय मित्रा एक परंपरागत हिन्दू परिवार से ताल्लुक रखते हैं, लेकिन रमज़ान के महीने में वो नियम से रोज़ा रखते हैं।
विज्ञापन

संजय मित्रा मुस्लिम बहुल रज़ाबाज़ार इलाक़े में रहते हैं और भारत विभाजन के समय हुए हिन्दू मुस्लिम दंगों की याद उनके ज़ेहन में आज भी ताज़ा है।
वो कहते हैं, “मैंने कई सांप्रदायिक दंगे देखे हैं। साल 1992 में जब बाबरी मस्जिद ढहाई गई, उस साल मैं दिल्ली में था। हर जगह दंगे हो रहे थे। मैंने ख़ुद को असहाय महसूस किया और बहुसंख्यक समुदाय से होने के नाते मैं इन दंगों पर शर्म महसूस करता हूं।”कभी कम्युनिस्ट पार्टी के सक्रिय सदस्य रहे मित्रा ने इन दंगों का विरोध करने का अपना ही तरीका अपनाया।
वो कहते हैं, “बाबरी मस्जिद गिरने के बाद मैंने अपने मुसलमान भाइयों के साथ एकता दिखाने के लिए इस घटना का विरोध करने का निश्चय किया। और फिर 1993 से ही रमज़ान के दौरान मैंने रोज़ा रखने का संकल्प लिया।”
विज्ञापन
आगे पढ़ें

'धार्मिक नहीं हूं'

विज्ञापन

Trending Video

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us