विज्ञापन

फर्जी एनकाउंटर के बूते पाया राष्ट्रपति पदक

ब्यूरो/अमर उजाला, पुवायां (शाहजहांपुर) Updated Mon, 01 Dec 2014 11:52 AM IST
Medal for Fake Encounter in Powayan
विज्ञापन
ख़बर सुनें
वर्ष 1993 में 12 अक्तूबर की रात पंजाब निवासी जिस हरजीत सिंह को पुवायां पुलिस ने गांव बिलसड़ी बुजुर्ग के पास एनकाउंटर में मारा जाना बताया था, वह मुठभेड़ फर्जी साबित हो गई है। पटियाला (पंजाब) की सीबीआई की स्पेशल कोर्ट के जस्टिस कंवलजीत सिंह बाजवा ने पटियाला पुलिस के तत्कालीन डीएसपी हरिंदर सिंह, पुवायां के तत्कालीन इंस्पेक्टर आरके सिंह समेत चार अन्य पुलिस कर्मियों को अपहरण, हत्या और साक्ष्य छुपाने का दोषी ठहराया है। सजा का ऐलान सोमवार को किया जाएगा। आरके सिंह को पंजाब पुलिस ने हिरासत में लेकर जेल भेज दिया है। वह इस वक्त सीतापुर जिले में सीओ सिटी के रूप में तैनात थे।
विज्ञापन
मामले में पुवायां पुलिस ने गांव बिलसड़ी बुजुर्ग के पास पंजाब के लुधियाना जिले के थाना पापल के गांव सहास मदारा के हरजीत सिंह को एक लाख का इनामी आतंकी बताते हुए मार गिराया था। एनकाउंटर के बाद उसके शव के पास से 38 बोर का विदेशी रिवाल्वर, 39 कारतूस और 11 खोखों की बरामदगी भी दर्शाई थी।

सीबीआई ने 1998 में शुरू की थी जांच
पुवायां के वकील विजय वर्मा ने हरजीत की हत्या किए जाने का तर्क देते हुए तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव से मामले की जांच कराए जाने और आरके सिंह सहित हरजीत की हत्या में शामिल पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। वर्ष 1996 में वर्मा की ओर से पुवायां थाने में मुकदमा संख्या 275 पर आरके सिंह के खिलाफ धारा 302, 342, 218, 201 के तहत रिपोर्ट दर्ज की गई थी।

हरजीत सिंह के परिवार के लोगों ने उसकी हत्या किए जाने की बात कहते हुए पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट से सीबीआई जांच की मांग की थी। कोर्ट के आदेश पर वर्ष 1998 में सीबीआई ने अपहरण, हत्या, शव को खुर्द बुर्द करने का केस दर्ज किया था। बाद में सीबीआई ने हरिंदर सिंह, आरके सिंह, पुवायां के तत्कालीन एसएसआई ब्रजलाल और सिपाही ओंकार सिंह को अभियुक्त बनाया था। पटियाला की सीबीआई कोर्ट ने शनिवार को जब दोष तय किया तो आरके सिंह वहीं मौजूद थे।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

मुठभेड़ के बूते पाया दो बार प्रमोशन

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

India News Archives

सबरीमाला: इस दावे से शुरू हुई थी मंदिर में महिलाओं के प्रवेश की कहानी

सबरीमाला मंदिर में ये है अब तक की पूरी कहानी, जानें कब क्या हुआ।

17 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree