विज्ञापन

गैंगरेप: महिला वैज्ञानिक ने दिया विवादित बयान

खरगोन/एजेंसी Updated Thu, 27 Dec 2012 09:27 PM IST
delhi victim should have meekly submitted to gang rape says woman scientist
ख़बर सुनें
दिल्ली में चलती बस में हुए गैंगरेप का जहां चारों ओर एक सुर में विरोध किया जा रहा है, वहीं मध्यप्रदेश के खरगोन जिला मुख्यालय पर एक महिला कृषि वैज्ञानिक ने इस संबंध में अजीबोगरीब बयान देकर नए विवाद को जन्म दे दिया है।
विज्ञापन
विज्ञापन
डा. अनीता शुक्ला ने बुधवार को यहां पुलिस प्रशासन की ओर से आयोजित एक सेमिनार में सामूहिक बलात्कार मामले में पीड़ित युवती को ही दोषी ठहरा दिया। पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी में संपन्न हुए सेमिनार में डा. शुक्ला ने कहा कि छह लोगों से घिरने के बाद युवती यदि विरोध नहीं जताती तो शायद उसकी आंतें निकालने की नौबत नहीं आती।

स्थानीय कृषि अनुसंधान केंद्र में वैज्ञानिक के पद पर पदस्थ डॉ. शुक्ला ने कहा कि देर रात उस युवती को अपने बॉयफ्रेंड के साथ घूमने की क्या आवश्यकता थी। यदि कोई लड़की ऐसा करती है तो इस तरह की घटनाओं को रोकना संभव नहीं है। उन्होंने पुलिस के रवैये का पक्ष लेते हुए कहा कि दरअसल महिलाओं ने उन्हें मिले अधिकारों और सुविधाओं का गलत उपयोग प्रारंभ कर दिया है।

इसी वजह से इस तरह की घटनाएं प्रकाश में आती हैं। मीडिया में मामले के आने के बाद पुलिस अधिकारियों ने कहा कि पुलिस ने इस सेमिनार का आयोजन अवश्य किया, लेकिन यह अनीता के निजी विचार हैं। राज्य के पुलिस महानिदेशक नंदन दुबे ने कहा कि इस तरह के बयानों को वह उचित नहीं मानते हैं, लेकिन फिलहाल महिला वैज्ञानिक के खिलाफ कोई कार्रवाई करने का इरादा नहीं है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

India News Archives

सीधी लड़ाई में कांग्रेस से हारी भाजपा, राममंदिर और धारा 370 पर जा सकती है वापस

कांग्रेस से सीधी लड़ाई में भाजपा को हार का मुंह देखना पड़ा है। इस हार के बाद भाजपा फिरसे राममंदिर और धारा 370 पर वापस लौट सकती है। कांग्रेस लोकसभा चुनाव में एक बार फिर कोशिश करेगी कि चुनाव राहुल बनाम मोदी हो।

12 दिसंबर 2018

विज्ञापन

प्लेन में ‘डायमंड’ लगे देखकर चौंके लोग, जानिए असली हकीकत

डायमंड लगे  इस प्लेन को देखकर लोग चौंक गए हैं। सोशल मीडिया पर तरह तरह के कमेंट्स कर रहे हैं, क्या है इसकी हकीकत जानिए

7 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree