विज्ञापन
विज्ञापन

प्रमोशन में आरक्षण बिल पर बढ़ा टकराव

नई दिल्ली/ब्यूरो Updated Tue, 11 Dec 2012 11:24 PM IST
clash in rajya sabha on promotion bill
ख़बर सुनें
सरकारी नौकरियों में एससी/एसटी प्रमोशन में आरक्षण संबंधी बिल मंगलवार को राज्यसभा में भारी हंगामे के चलते लटक गया है। सपा ने  बिल पर सदन में चर्चा ही शुरू नहीं होने दी। कई बार कार्यवाही बाधित होने की वजह से राज्यसभा दिनभर के लिए स्थगित करनी पड़ी। यूपीए सरकार सपा और बसपा के बीच संतुलन बैठाने की जुगत में लगी हुई है। मगर अभी तक  उसे कोई सफलता नहीं मिली है।
विज्ञापन
सरकार बुधवार को राज्यसभा में दोबारा बिल पर चर्चा करवाने की कोशिश करेगी लेकिन सपा के रवैये को देखते हुए इस पर चर्चा होने की संभावना बहुत ही कम है। सरकार के मैनेजर बसपा प्रमुख मायावती और सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव से संपर्क कर सुलह का फार्मूला निकालने में जुटे हुए हैं। मगर सपा इसे यूपी की सियासत से जोड़ते हुए पारित करवाने के पक्ष में नहीं है। सपा नेताओं ने संकेत दिया है कि वे बुधवार को राज्यसभा में पहले से और ज्यादा कड़ा रुख अपनाते हुए प्रश्नकाल तक चलने नहीं देंगे।

प्रमोशन में आरक्षण बिल चर्चा और पारित होने के लिए मंगलवार को राज्यसभा की कामकाज की सूची में शामिल था। सरकार ने बिल पर चर्चा करवाने की कोशिश भी की। मगर सपा शुरू से ही इसके खिलाफ आक्रामक थी। हंगामे को लेकर सभापति हामिद अंसारी की नाराजगी भी सपा सदस्यों को डिगा नहीं पाई। कार्मिक राज्यमंत्री नारायणसामी ने बिल पर चर्चा कराने की कोशिश की।

मगर सपा सदस्यों ने सभापति के आसन के सामने नारे लगाने शुरू कर दिए। सदन की कार्यवाही दोपहर बाद कई दफा स्थगित होने के बाद दोपहर चार बजे दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई। सदन के बाहर सपा महासचिव रामगोपाल यादव ने कहा कि हम यह बिल कतई मंजूर नहीं होने देंगे। हमारे सदस्यों के खिलाफ सभापति कार्रवाई भी करते हैं तो भी सपा इस पर पीछे नहीं हटने वाली। हम हर कार्रवाई के लिए तैयार है।

उधर, बसपा मंगलवार को ज्यादा मुखर नहीं दिखी। सूत्रों ने बताया कि यूपीए सरकार को तीन दिन का अल्टीमेटम देने के बाद बसपा ‘देखो और इंतजार करो’ की रणनीति अपना रही है। पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने यह स्वीकार किया कि संविधान संशोधन में बिना विपक्ष की रजामंदी के सरकार के लिए भी आगे बढ़ना मुश्किल है। पार्टी नेता यह भी मान रहे है कि अगर सरकार बिल को पारित करवा नहीं पाती तो उसके लिए यूपीए से समर्थन वापसी का फैसला लेना इतना आसान नहीं होगा।

बसपा के समर्थन वापसी के कदम से यूपीए सरकार की सपा पर निर्भरता पहले से और अधिक बढ़ सकती है। जिससे बसपा को केंद्रीय स्तर पर नुकसान हो सकता है। लिहाजा, पार्टी सरकार पर सियासी दबाव बनाने की कोशिश में है। बसपा सूत्रों का कहना था कि मायावती ने मंगलवार को लोकसभा सांसदों को सदन में कोयला घोटाले का मुद्दा उठाने के लिए कहा था। मगर सरकार के मैनेजरों से बात करने के बाद सांसदों को ऐसा करने से मना कर दिया गया।
विज्ञापन

Recommended

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी
Invertis university

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त
Astrology Services

संतान के उज्वल भविष्य व लंबी आयु के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं संतान गोपाल पाठ व हवन - 24 अगस्त

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

अनूप जलोटा संग हेमा मालिनी ने लॉन्च किए दो भक्ति गीत, नाम हैं कृष्ण मंत्र और कृष्ण महामंत्र

हेमा मालिनी और अनूप जलोटा ने कृष्ण से संबंधित दो गीत लॉन्च किए। कृष्ण मंत्र और कृष्ण महामंत्र के नाम के ये गीत हेमा ने लॉन्चिंग के दौरान खुद लोगों को सुनाए।

23 अगस्त 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree