विज्ञापन

बसपा नेता भारद्वाज मर्डर केस में पत्नी से पूछताछ

नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क Updated Thu, 28 Mar 2013 03:02 PM IST
विज्ञापन
bsp leader deepak bhardwaj murder case police question wife
ख़बर सुनें
बसपा नेता और अरबपति कारोबारी दीपक भारद्वाज के मर्डर केस में पुलिस ने उनकी पत्नी रमेश कुमारी से पूछताछ की है। पुलिस सूत्रों ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से रमेश कुमारी अपने पति से अलग रह रही हैं।
विज्ञापन
उल्लेखनीय है कि रीयल स्टेट टायकून दीपक भारद्वाज (62) की मंगलवार सुबह वसंत कुंज में उनके फार्म हाउस पर दिनदहाडे़ गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

इसी मामले में पुलिस ने बुधवार को चार लोगों को हिरासत में लिया था। इन लोगों पर हमलावरों को हथियार देने का आरोप है।

जांच अधिकारियों का कहना है कि हमलावर सोनीपत से आए थे जहां मर्डर की योजना बनाई गई। वहीं पुलिस का दावा है कि उसने मर्डर में इस्तेमाल की गई कार को बरामद कर लिया है।

गौरतलब है कि दीपक भारद्वाज की मंगलवार सुबह वसंत कुंज में उनके फार्म हाउस पर दिनदहाडे़ गोली मारकर हत्या कर दी गई। डार्क ग्रे रंग की स्कोडा कार में आए तीन बदमाश शादी के लिए लॉन बुक कराने के बहाने फार्म हाउस में घुसे थे। हत्या को अंजाम देने के बाद वे फरार हो गए।

भारद्वाज ने वर्ष 2009 में पश्चिमी दिल्ली से बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था। उस समय वे 614 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ सबसे अमीर प्रत्याशी थे।

भारद्वाज का साम्राज्य
- 62 वर्षीय कारोबारी भारद्वाज की रियल एस्टेट, होटल और एजूकेशन सेक्टर में अच्छी पैठ थी। भारद्वाज का द्वारका में शिक्षा भारती नाम से मशहूर स्कूल है जबकि उनकी योजना दो और स्कूल खोलने की थी। हरिद्वार में उनकी एक टाउनशिप भी है जबकि दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेस-वे पर नितेश कुंज होटल कॉम्प्लेक्स के नाम से उनका होटल है।

- भारद्वाज वर्ष 2009 में पश्चिमी दिल्ली से बसपा के टिकट पर महाबल मिश्रा और जगदीश मुखी के खिलाफ चुनाव लड़े थे। वे तीसरे नंबर पर रहे थे। उस समय वे 614 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ सबसे अमीर प्रत्याशी थे।

- एक वेबसाइट के अनुसार उन पर दो मामले दर्ज हैं, जिनमें से एक धोखाधड़ी का है।

- आर्य समाज के अध्यक्ष भारद्वाज के छोटे बेटे नितेश की शादी अभिनेता शाहरुख खान की साली से हुई है।

- एक मैगजीन के अनुसार, भारद्वाज पहले दिल्ली सरकार में स्टेनोग्राफर के तौर पर कार्य करते थे। इसके बाद उन्होंने रियल एस्टेट की तरफ रुख किया। कॉरपोरेट घरानों के लिए कृषि भूमि का अधिग्रहण कर उन्होंने अपना भाग्य चमकाया।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us