मनमोहन का 'ज्ञान' या मोदी का 'हुनर'?

अपूर्वानंद/विश्लेषक, बीबीसी हिंदी डॉटकॉम Updated Mon, 01 Dec 2014 06:03 PM IST
bjp and modi's education policies analysis.
ख़बर सुनें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत में 'स्किल डेवलपमेंट' से बड़ी आबादी को रोजगार और अर्थव्यवस्था को विकसित करने की बात कहते हैं। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह 'नॉलेज बेस्ड इकॉनमी' या ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था की बात करते थे।
मौजूदा सरकार स्कूली शिक्षा व्यवस्था में परिवर्तन के साथ ही यूजीसी में भी बदलाव की तैयारियां कर रही है। लेकिन मीडिया शिक्षा क्षेत्र में किए जा रहे बड़े बदलावों पर पर्याप्त ध्यान नहीं दे रहा है। पिछले 10 सालें में जो मुहावरा बहुत प्रचलित हुआ था, वह था 'नॉलेज बेस्ड इकॉनमी'।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को यह टर्म बेहद प्यारा था। हालांकि शिक्षाविदों को इससे काफ़ी उलझन होती थी क्योंकि ज्ञान को अर्थव्यवस्था के लिए उपयोगी होने मात्र तक ही यह सीमित कर देता था। फिर भी प्रचलन में ज्ञान शब्द कहीं तो था!

मई, 2014 के बाद से सरकार की ओर से ज्ञान शब्द का उच्चारण ही नहीं किया गया है। ज्ञान शब्द के लगभग गायब हो जाने के बाद शिक्षा की पूरी चर्चा में अगर कोई शब्द सबसे अधिक लोकप्रिय हो गया है तो वह है हुनर या स्किल।

कहा जा रहा है कि पूरी दुनिया को ड्राइवर, नर्स और इसी तरह के हुनरमंद लोगों की सख्त जरूरत है और भारत के पास ढेर सारे लोग हैं, सो उन्हें ये हुनर देकर कमाई के लिए विदेश भेज देना चाहिए! इससे भारत को विदेशी मुद्रा भी मिलेगी!
आगे पढ़ें

पढ़ाना बच्चों का खेल नहीं है

RELATED

Spotlight

Most Read

India News Archives

पहली बार बांग्लादेश की धरती से विद्रोहियों के ठिकाने पूरी तरह से साफ: BSF

भारत की पूर्वी सीमा पर दशकों से चले आ रहे सीमा पार विद्रोही शिविरों को लेकर एक अहम जानकारी आई है।

18 दिसंबर 2017

Related Videos

बागपत के स्कूल में गैस लीक, 25 बच्चों की तबीयत बिगड़ी

बागपत में गांव छपरौली के एक प्राथमिक स्कूल में गैस सिलेंडर लीक होने का एक मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक मिड डे मील के लिए आया सिलेंडर लीक हो रहा था, गैस लीकेज इतनी ज्यादा थी कि बच्चों की तबीयत बिगड़ने लगी।

6 मई 2017

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे कि कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स और सोशल मीडिया साइट्स के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज़ नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज़ हटा सकते हैं और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डेटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy और Privacy Policy के बारे में और पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen