बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

चीनी मिल की हेराफेरी से उड़े किसानों के होश

Updated Sat, 04 Apr 2015 09:25 AM IST
विज्ञापन
Big Fraud by Sugar mill with farmers

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
उत्तम शुगर मिल प्रबंधन ने किसानों को गन्ना मूल्य भुगतान करने का नया तरीका अपनाया है। मिल ने किसानों की जमीनों को बैंक में गिरवी रखना शुरू कर दिया है। आर्थिक रूप से कमजोर किसानों से कृषि फार्म फरवाया जा रहा है। जिसके आधार पर किसान की जमीन बैंक में गिरवी रखी जा रही है।
विज्ञापन


इस जमीन पर मिला हुआ ऋण किसान को गन्ना भुगतान के रूप में दिया जा रहा है। मिल का दावा है कि इस ऋण का ब्याज सहित भुगतान करने की जिम्मेदारी चीनी मिल की होगी।


बरकातपुर स्थित चीनी मिल से क्षेत्र के करीब 31 हजार किसान जुड़े हैं। चीनी मिल पर किसानों का करीब 80 करोड़ रुपया गन्ना मूल्य बकाया है। बैंकों ने भी मिल को ऋण देने से हाथ खड़े कर दिए हैं। गन्ना मूल्य भुगतान के लिए किसानों का चीनी मिल प्रबंधन पर दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है।

ऐसे में चीनी मिल प्रबंधन ने किसानों को गन्ना मूल्य भुगतान करने के लिए उनकी भूमि पर कर्ज लेना शुरू कर दिया है। चीनी मिल प्रबंधन किसानों से एक फार्म भरवा रहा है। इस फार्म पर किसान की फोटो और हस्ताक्षर कराए जा रहे हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

बरकातपुर मिल ने निकाला नया तरीका

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us