'बहू' उड़ा रही है राहुल गांधी की नींद

नितिन श्रीवास्तव/बीबीसी संवाददाता, अमेठी-गौरीगंज से Updated Mon, 05 May 2014 03:39 PM IST
विज्ञापन
big fight in amethi seat between rahu and smriti

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
शाम के साढ़े चार बजे हैं और तापमान 39 डिग्री पार कर रहा है।
विज्ञापन

अमेठी संसदीय क्षेत्र के मुसाफिरखाना जाने वाली सड़क पर एकाएक मुझे धूल के बादल दिखते हैँ और हम गाड़ियों के काफ़िले में शामिल हो जाते हैं।
लगभग तीन किलोमीटर तक पगडंडियों पर चलकर ये काफ़िला रुकता है और 'अबकी बार मोदी सरकार' के नारे गूंजते हैं। काफ़िले में सबसे आगे चलने वाली एसयूवी से एक महिला उतरती हैं और कई हाथ उनकी ओर बढ़ जाते हैं।
बादामी साड़ी, मांग में सिंदूर और पैरों में चप्पल पहने स्मृति ईरानी एक तख़्त पर खड़ी होकर गुहार लगाती हैं, "हम आ गए हैं भैया, अब यहाँ से जाने वाले नहीं हैं।"
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विकास है स्मृति का मुद्दा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us