बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

बीफ बैनः हजारों की नौकरी पड़ गई खतरे में

Updated Tue, 31 Mar 2015 03:39 PM IST
विज्ञापन
beef ban: create unemployment situation for thousand of people

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
महाराष्ट्र सरकार के गोवंश हत्याबंदी क़ानून के लागू होने के बाद इस व्यापार से जुड़े हज़ारों लोगों के रोज़गार पर संकट आ गया है। इनमें बीफ के व्यंजन बेचने वाले होटल, रेस्तरां, चमड़े की वस्तुओं के व्यापारी और कुरैशी समाज के करोड़ों लोग हैं- जो बैल काटने का काम करते हैं।
विज्ञापन


मुंबई के धारावी इलाके में चमड़े का व्यापार बड़े पैमाने पर होता है। यहां शुद्ध चमड़े से बनी बेल्ट, लेडीज़ बैग, पर्स जैसी अन्य चीज़ें मिलती हैं।

धारावी में चमड़े की वस्तुओं का व्यापार करने वाले असलम शेख (बदला हुआ नाम) कहते हैं, "हमारे बाज़ार की ज्यादातर चीज़ें बैल के चमड़े से बनती हैं। इस कानून के लागू हो जाने के बाद हमारा सारा व्यापार ही बंद हो जाएगा।" धारावी के चमड़ा व्यापारियों को डर है कि इस कानून के लागू होने के बाद उनके लिए भुखमरी की नौबत आ जाएगी।


नाम न बताने की शर्त पर एक व्यापारी ने कहा, "हम कई पुश्तों से यह व्यापार कर रहे हैं। अब अचानक यह काम छोड़ कर हम दूसरा काम भी शुरू नहीं कर सकते। हमारा जमा जमाया व्यापार मिट्टी में मिल जाएगा और हम सड़क पर आ जाएंगे।"
विज्ञापन
आगे पढ़ें

महाराष्ट्र में बैल काटने पर पाबंदी लगी

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us