सीखने की ललक जिंदा रखें- राघव सूद

अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Thu, 21 Nov 2013 11:01 AM IST
विज्ञापन
Youngest CEO_Raghav Sood_MCM College_Success tips

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
जिंदगी में सफलता पाने के लिए हमेशा नया सीखते रहने की ललक होनी चाहिए। यही प्रोसेस आगे बढ़ने का सबसे बेहतरीन तरीका है। यह कहना है 16 वर्षीय राघव सूद का।
विज्ञापन

राघव सूद ने मोबाइल एप्प कंपनी के सीईओ और एंड्रायड पर सबसे कम उम्र में किताब लिखने का रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज किया है। राघव गुड़गांव के श्रीराम स्कूल में 11वीं साइंस संकाय के छात्र हैं। उनके पिता आईबीएम में कार्यरत हैं।
राघव ने 9 साल की उम्र में उन्होंने पहली वेबसाइट डेवलप की थी। उनकी कंपनी अमेरिका में रजिस्टर्ड है। राघव अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार को देते हैं। अगले महीने में उनकी एक ओर किताब बाजार में आने वाली है।
सबसे कम उम्र में अपने दम पर कंपनी शुरू कर चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (सीईटी) बनने वाले राघव सूद कहते हैं कि अगर जिंदगी में सफल होना है तो जीत के जुनून को बनाए रखें और अपने लक्ष्य पर पूरा फोकस रखें।

जब तक आपमें नई चीजों को सीखने की ललक नहीं होगी, अब कुछ नहीं सीख पाएंगे। हमेशा जो भी सीखें उसे अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ, अन्य लोगों के साथ साझा करते रहे।

हर चीज को अलग नजरिए से देखने की क्षमता का विकास करें। ध्यान रखिएगा, परिवारजनों का सहयोग ही आपको सफलता के रास्ते पर ले जाएगा। अकेले कुछ नहीं कर पाएंगे।

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us