विज्ञापन

खुशियां तो हैं मगर आधी-अधूरी

टीम डिजिटल/अमर उजाला, दिल्ली Updated Mon, 01 Dec 2014 12:22 PM IST
lack of basic facilities in uttar pradesh
विज्ञापन
ख़बर सुनें
देश का दिल कहा जाता है यूपी। संभावनाओं से भरा-पूरा। मगर, सर्वाधिक आबादी वाले इस प्रदेश के लोगों की दिक्कतें भी कम नहीं हैं। वे सड़क, बिजली, पानी, रोजगार, महिला सुरक्षा, शिक्षा, सेहत, प्रदूषण और कूड़ों के ढेर जैसे मुद्दों से जूझ रहे हैं।
विज्ञापन
हमने तय किया कि लोगों के पास जाकर उनकी राय ली जाए। हमने 11 मुद्दे चुने और 11 शहरों - लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, इलाहाबाद, गोरखपुर, बरेली, मेरठ, आगरा, मुरादाबाद, अलीगढ़ और झांसी को चुना, ताकि पूरे प्रदेश की तस्वीर उभर सके।

अमर उजाला के लिए हंसा रिसर्च ने जो सर्वे किया, उससे यह सामने आया कि लखनऊ को छोड़कर बाकी शहरों में लोग बुनियादी सुविधाओं को लेकर बहुत खुश नहीं हैं।

इस सर्वे में उभरी एक दिलचस्प तस्वीर, लेकिन यह नीति नियंताओं के लिए सबक की तरह है। सेहत का मामला हो या शिक्षा का, लोगों का भरोसा सरकार से अधिक निजी क्षेत्रों पर बढ़ा है! छोटे (पांच से दस लाख तक की आबादी वाले) और बड़े (दस से चालीस लाख तक की आबादी वाले) शहरों के युवा अपने शहर में ही रहना चाहते हैं। यानी यह सरकारी के साथ ही निजी प्रतिष्ठानों के लिए यूपी में रोजगार के नए अवसर पैदा करने का संकेत भी है।

सड़क, बिजली, पानी ऐसे मुद्दे हैं, जो सरकार तक बदल देते हैं। बिजली के मामले में तो पूरे सूबे का हाल बुरा है। मेरठ में सर्वाधिक 64 फीसदी लोगों ने माना कि घरों में इनवर्टर के बिना उनका काम नहीं चलता। अलबत्ता पानी और सड़क के मामले में बड़े शहर कुछ बेहतर नजर आते हैं। लेकिन हकीकत यह भी है कि आगरा में एक चौथाई लोग पानी खरीदने को मजबूर हैं, तो गोरखपुर में सर्वाधिक 34 फीसदी लोग पानी की गुणवत्ता से संतुष्ट नहीं हैं।

सर्वे में शामिल 50 फीसदी लोग बदहाल सड़कों को दुर्घटनाओं का कारण मानते हैं। टाटा स्ट्रेटजिक ग्रुप महिलाओं की सुरक्षा को महिला सुरक्षा सूचकांक (एफएसआई) से आंकता है और इसके मुताबिक महिला सुरक्षा के मामले में यूपी देश का सबसे बदतर राज्य है!

सर्वे बताता है कि 50 फीसदी महिलाओं को अपनी सुरक्षा को लेकर पुलिस पर भरोसा नहीं है। 39 फीसदी महिलाएं दिन में भी बाहर निकलते वक्त खुद को असुरक्षित महसूस करती हैं। रात में निकलने पर यह आंकड़ा 71 फीसदी तक जा पहुंचता है। सर्वे में इन मुद्दों को अलग-अलग नजरिये से देखने की कोशिश की गई, ताकि विभिन्न पहलुओं को लेकर लोगों की राय सामने आ सके।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

City and States Archives

गर्भवती को जलाकर मार डाला, कोर्ट ने पति, सास-ससुर को सुनाई बड़ी सजा

दहेज के लिए गर्भवती को जलाकर हत्या करने के मामले में फर्रुखाबाद जिला जज अरुण कुमार मिश्र ने पति, सास, ससुर को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

21 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

‘मौत के कुएं’ ने ली दो सगे भाईयों की जान, गांव में कोहराम

कानपुर देहात में कुएं में उतरे दो सगे भाइयों की मौत से हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि गांव के सालों पुराने कुएं से जहरीली गैस निकल रही थी जो दोनों भाईयों की मौत की वजह बनी।  

7 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree