बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

बीबीएयू : आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को तीन महीने से वेतन नहीं, अब दवा के भी पड़ रहे लाले

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Published by: ishwar ashish Updated Sat, 01 May 2021 04:08 PM IST

सार

विश्विद्यालय के आउटसोर्सिंग कर्मचारी पिछले एक साल से ज्यादा से वेतन संकट से जूझ रहे हैं। कभी दो तो कभी तीन महीने वेतन का संकट ही रहता है। विवि हर बार यूजीसी से फंड न आने की बात कर पल्ला झाड़ लेता है।
विज्ञापन
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : social media

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विस्तार

बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर केंद्रीय विश्वविद्यालय (बीबीएयू) के तीन सौ से अधिक आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को तीन महीने से वेतन नहीं मिला है। इसके कारण जहां पूर्व में उनकी होली का रंग खराब हो चुका है। वहीं अब कोविड-19 के इस संक्रमण काल में उनके पास दवा खरीदने के भी पैसे नहीं बचे हुए हैं।
विज्ञापन


विश्विद्यालय के आउटसोर्सिंग कर्मचारी पिछले एक साल से ज्यादा से वेतन संकट से जूझ रहे हैं। कभी दो तो कभी तीन महीने वेतन का संकट ही रहता है। विवि हर बार यूजीसी से फंड न आने की बात कर पल्ला झाड़ लेता है। विवि द्वारा इसके लिए अपना कोई सोर्स नहीं विकसित किया जा सका है। यही वजह है कि अक्सर यह समस्या सामने आ जाती है।


वर्तमान में भी कर्मचारियों ने बताया कि उनको फरवरी से वेतन नहीं मिला है। फरवरी, मार्च और अप्रैल भी बीतने को है। इस तरह उनका तीन महीने का वेतन नहीं मिला है। इसके कारण उनकी होली तो खराब ही हो चुकी है। अब परिवार चलाने के संकट के साथ दवा की भी किल्लत होने लगी है। कई कर्मचारी संक्रमित है या उनके परिजनों को कोविड हुआ है, लेकिन इस विपरीत समय में वे पैसा न होने के कारण दवा भी नहीं ठीक से करवा पा रहे हैं।

वहीं, विवि प्रवक्ता डॉ. रचना गंगवार ने बताया कि यूजीसी से फंड आने में देरी के कारण ही वेतन फंस जाता है। अभी भी इसी वजह से दिक्कत है। कुछ फंड आया है, जल्दी ही एक महीने का वेतन जारी होगा। जैसे-जैसे यूजीसी से फंड आएगा, वैसे-वैसे वेतन जारी होता जाएगा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X