घर पर हैं बच्चे तो छुपाकर रखें यह चीज, कहीं नजर पड़ गई तो...

रुपायन डेस्क, अमर उजाला Updated Sun, 11 Feb 2018 09:50 AM IST
Researchers found that children who played a lot of in front of screen devices are unhappy
kids playing
भले ही आज किशोर आयु के बच्चे कंप्यूटर या मोबाइल को मनोरंजन का साधन मानने लगे हों और घंटों अपना समय उसमें जाया करते हों, मगर वास्तव वे इससे ज्यादा खुश नहीं होते हैं। हाल ही में हुए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है।  इस अध्ययन के प्रमुख लेखक और सैन डिएगो स्टेट यूनिवर्सिटी में साइकोलॉजी के प्रोफेसर जीन एम ट्विंज कहते हैं कि जो नाबालिग अपने स्मार्टफोन पर ज्यादा देर तक आंखें जमाए रहते हैं, वे स्पष्ट रूप से दुखी रहते हैं।' इस शोध में शामिल 8वीं, 10वीं और 12वीं के छात्रों से उनके मोबाइल फोन, टैबलेट्स और कंप्यूटर पर बिताए गए समय संबंधी सवाल पूछे गए थे। उनसे सामाजिक संबंधों और आंतरिक खुशी के बारे में भी सवाल किए गए थे। शोध में पाया गया कि जिन छात्रों ने अपना ज्यादा समय स्क्रीन डिवाइस के सामने बिताया था, वे उन छात्रों के तुलना में कम खुश थे, जिन्होंने अपना समय किसी खेल को खेलने, अखबार और मैग्जीन पढ़ने और एक-दूसरे से आमने-समाने बातचीत करने में बिताया था। यह अध्ययन ‘इमोशन’ नामक जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all update about bollywood news, fitness news, cricket news, Entertainment news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Related Videos

दिल्ली के शिवाजी कॉलेज में शाहिद माल्या की LIVE परफॉर्मेंस

बॉलीवुड के ब्लॉकबस्टर गानों ‘इक कुड़ी’, ‘रब्बा मैं तो मर गया ओए’ और ‘कुक्कड़’ से दिल्ली के शिवाजी कॉलेज की शाम रंगीन हो गई जब इन्हें खुद गाया शाहिद माल्या ने।

17 फरवरी 2018

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen