भागी हुई लड़कियां: 'वो न प्यार के लिए भागी, न शादी से, लेकिन भागी'

गीता यथार्थ, बीबीसी हिन्दी Updated Fri, 17 Feb 2017 04:37 PM IST
Neither For Love Nor For Marriage, I Ran Away For Something Else

गांव के स्कूल में हमेशा पहली या दूसरी पोजिशन आती थी। स्कूल के टीचर पापा से मिलने पर तारीफ करना नहीं भूलते थे। पापा खुशी से फूले न समाते। पापा मुझे मेडिकल की पढ़ाई कराना चाहते थे। उन्हें लगता कि बेटा एमबीबीएस कर रहा है तो बेटी भी कर लेगी।

गांव के स्कूल में पांचवीं तक की पढ़ाई के बाद बाद दूसरे गांव पढ़ने जाना पड़ता था। दसवीं क्लास में अच्छे नंबर आए तो पापा की उम्मीद बढ़ गई। पापा ने सोच लिया कि अब लड़का और लड़की दोनों ही डॉक्टर बनेंगे।

गांव के स्कूल में 11वीं में मेडिकल सब्जेक्ट नहीं था इसलिए पापा ने मेरा एडमिशन गुड़गांव के एक प्राइवेट इंग्लिश मीडियम स्कूल में करवा दिया। फीस भरना पापा के लिए मुश्किल था। पापा ने घर के खर्चे में कटौती कर स्कूल की फीस चुकाई।

शहर के स्कूल में आकर मालूम चला कि दुनिया कितनी बड़ी है। सब फर्राटेदार इंग्लिश में बात करते। ऐसी इंग्लिश हमारे स्कूल के इंग्लिश टीचर भी न बोल पाते थे। लड़कियों की स्कूल ड्रेस की छोटी स्कर्ट सपने जैसा लगता और इन सबसे उलट मैं टॉम बॉय टाइप की लड़की, लंबी स्कर्ट, बेढंगी शर्ट, हिंदी बोलने वाली सबके मज़ाक का केंद्र बन गई।

आगे पढ़ें

गांव वाली का टैग लग गया

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all update about cricket news, Entertainment news, bollywood news, fitness news in hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Related Videos

डबल मर्डर में जुड़ा प्रेम प्रसंग का तार, खेत में ही हुई हत्या

सीतापुर में दोहरे हत्याकांड से सनसनी फैल गई। दो युवकों का खेत में शव मिलने पर वारदात का खुलासा हुआ। वहीं शुरुआती जांच में पुलिस इस हत्या के पीछे प्रेम प्रसंग का मामला जोड़कर देख रही है।

19 फरवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Switch to Amarujala.com App

Get Lightning Fast Experience

Click On Add to Home Screen