एक तिहाई महिलाओं को हो सकता है ये खतरा

Priyanka Padlikarप्रियंका पाडलीकर Updated Tue, 25 Mar 2014 01:15 PM IST
विज्ञापन
breast cancer effects one third female population

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
एक अध्ययन से यह बात सामने आई है कि लगभग एक तिहाई महिलाओं को स्तन कैंसर का ख़तरा है और उन्हें तीन साल में एक से अधिक बार ज़रूर अपनी जाँच करानी चाहिए।
विज्ञापन


साल 2009 और 2013 के बीच 53,467 महिलाओं पर किए गए अध्ययन के बाद यह निष्कर्ष निकाला गया है।

पढ़ें - सांसों के जरिए पता चल सकता है ब्रेस्ट कैंसर


वैज्ञानिकों ने इनमें से 14,593 महिलाओं में स्तन कैंसर का 'औसत से अधिक' जोखिम पाया है।

वे उम्मीद करते हैं, इस अध्ययन से महिलाओं में जागरूकता आएगी और वे अपनी जीवनशैली में बदलाव लाएंगी जिससे क्लिक करें स्तन कैंसर के मामले कम करने में मदद मिलेगी।

अध्ययन में कहा गया है कि औसत से अधिक जोखिम का मतलब है कि ऐसे मामलों में अगले दस साल में स्तन कैंसर होने की 3।5% संभावना है।

अभी 50 से 70 साल की महिलाओं को तीन साल में एक बार मैमोग्राम की सलाह दी जाती है ताकि शुरूआती चरण में ही कैंसर का पता चल पाए और उपचार के असरदार होने की संभावना बढ़ जाए।

प्रमुख शोधकर्ता मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर गैरेथ इवांस ने कहा, "रोकथाम न केवल महिलाओं को कैंसर की तकलीफ़ से बचाएगा बल्कि उपचार पर होने वाले 'अधिक ख़र्च' से भी बचाएगा।

वैज्ञानिकों ने परिवार के इतिहास, जीवन शैली के रूप में जोखिम कारकों का आकलन और लार से आनुवंशिक जानकारी एकत्र कर स्तन कैंसर के किसी मरीज़ में विकसित होने की आशंका का आकलन किया।

उन्होंने मैमोग्राम और दृश्य आकलन के ज़रिए स्तन ऊतक घनत्व को भी मापा जो स्तन कैंसर होने का किसी मरीज़ में संकेत होता है।

जीवन शैली में नियमित व्यायाम, क्लिक करें वज़न कम करना, और शराब का सेवन कम करना जैसे कुछ बदलाव लाकर भी 30 फ़ीसद तक स्तन कैंसर का जोखिम कम किया जा सकता है।

प्रोफ़ेसर इवांस ने कहा, "यह बदलाव महिलाओं की किस्मत को उनके ही हाथों में सौंपेगा।"

नया तरीका
वैज्ञानिकों ने 14,593 महिलाओं में स्तन कैंसर का 'औसत से अधिक' जोखिम पाया है।

स्तन कैंसर जांच की प्रभावशीलता के संबंध में एक स्वतंत्र समीक्षा 2012 में प्रकाशित हुई थी, जिसमें 'अधिक उपचार' की अवधारणा पर काफ़ी बहस हुई है।

अधिक उपचार तब होता है जब सही तरीक़े से स्क्रीनिंग के बाद क्लिक करें ट्यूमर पाया जाता है, लेकिन जो नुक़सानदायक नहीं होता है।

इसकी वज़ह से महिलाओं को शल्य चिकित्सा, हार्मोन चिकित्सा, रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी के रूप में अनावश्यक उपचार से गुजरना पड़ सकता है और अक्सर इसके काफ़ी साइड इफ़ेक्ट होते हैं।

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के प्रोफ़ेसर माइकल मारमोट ने कहा, "इस मामले में इस अध्ययन से मदद मिल सकती है।"

उन्होंने कहा कि जिन महिलाओं में स्तन कैंसर का ख़तरा ज़्यादा होता है उनमें बीमारी के गंभीर लक्षण दिखने की संभावना होती है तब वैसी हालत में उपचार की प्रासंगिकता ज़्यादा होती है।

लेकिन उन्होंने कहा कैंसर के विकास में स्क्रीनिंग के एक या दो साल के अंतराल के महत्व का आकलन ज़रूरी है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें  लाइफ़ स्टाइल से संबंधित समाचार (Lifestyle News in Hindi), लाइफ़स्टाइल जगत (Lifestyle section) की अन्य खबरें जैसे हेल्थ एंड फिटनेस न्यूज़ (Health  and fitness news), लाइव फैशन न्यूज़, (live fashion news) लेटेस्ट फूड न्यूज़ इन हिंदी, (latest food news) रिलेशनशिप न्यूज़ (relationship news in Hindi) और यात्रा (travel news in Hindi)  आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़ (Hindi News)।  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X