विज्ञापन

मुलायम सिंह के इस नमो प्रेम का आखिर क्या है राज

शरद गुप्ता, नई दिल्ली Updated Thu, 14 Feb 2019 05:56 AM IST
मुलायम सिंह यादव (फाइल फोटो)
मुलायम सिंह यादव (फाइल फोटो)
ख़बर सुनें
पूर्व रक्षामंत्री मुलायम सिंह यादव ने बुधवार को फिर चौंका दिया। लोकसभा में मुलायम ने कहा कि नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनें। उन्होंने कहा, पीएम को बधाई देना चाहता हूं कि आपने सबको साथ लेकर चलने का प्रयास किया है। मैं चाहता हूं कि सारे सदस्य फिर से जीतकर आएं और आप दोबारा प्रधानमंत्री बनें। मुलायम ने जब यह कहा, तो उनके ठीक बगल में बैठीं यूपीए मुखिया सोनिया गांधी भी असहज हो गईं। इससे पहले, लखनऊ में करीब दो साल पहले योगी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में मोदी के कान में कुछ कहकर वे सियासी हल्कों में चर्चा और मीडिया में सुर्खियां बने थे।
विज्ञापन
सियासी हल्कों में फिर चर्चाएं शुरू हो गईं हैं कि पीएम मोदी पर फिर उमड़े प्रेम का राज क्या है? क्या वे सचमुच चाहते हैं कि मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनें या उनकी जुबान फिसल गई थी? हालांकि लोकसभा से बाहर निकलने के बाद उन्होंने कहा कि वो तो ऐसे ही बोल दिया था। लेकिन, उन्हें नजदीक से जानने वाले मानते हैं कि मुलायम की इस कामना के पीछे महज सियासी सदाशयता नहीं है। वे सदन के बाहर भी ऐसा कह सकते थे। लेकिन, यह तय है कि ऐसी सुर्खियां नहीं मिलतीं।

नहीं भूलना चाहिए कि ये वही मुलायम हैं, जिन्होंने 1990 में बतौर मुख्यमंत्री भाजपा और विहिप के आंदोलन को दबाने के लिए न सिर्फ अयोध्या में ‘परिंदा भी पर नहीं मार पाएगा’ जैसे बयान दिए, बल्कि निहत्थे कारसेवकों पर दो-दो बार गोलियां चलवाईं। यूपी में सपा सरकार रहते, उन्होंने इसे उचित भी करार दिया था और यह भी कहा था कि फायरिंग में ज्यादा लोग भी मरते, तो उन्हें रंज नहीं हता। तो क्या मुलायमसिंह बदल गए हैं या उनकी विचारधारा बदल गई है?

मुलायम के करीबियों का दावा है कि वे सपा-बसपा गठबंधन से खुश नहीं हैं। समय-समय पर अपनी नाराजगी भी जाहिर करते रहते हैं। महागठबंधन की कोशिशों में जिस तरह उन्हें किनारे किया गया है, उससे भी वे आहत बताए जाते हैं। लेकिन, यह भी सच है कि वे अपने बेटे अखिलेश को हारते हुए भी नहीं देखना चाहते हैं। बुधवार को संसद में दिए बयान के पीछे एक कारण यह हो सकता है।

वहीं, जिस काम के लिए वे मोदी के शुक्रगुजार हैं, वह उनके खिलाफ सीबीआई में चल रहा आय से अधिक संपत्ति (डीए) का मामला है, जो पिछले पांच साल से ठंडे बस्ते में ही है। दरअसल सीबीआई ने 2000 से 2005 के बीच उनके परिवार के सभी सदस्यो के आयकर रिटर्न की जांच की और पाया कि इनमें उनकी घोषित आय से 2.68 करोड़ रुपये की संपत्ति ज्यादा पाई गई।

भारत-अमेरिका परमाणु सौदे को लेकर वाम दलों ने 2008 में मनमोहन सिंह सरकार से जब समर्थन वापस ले लिया था, तो उसे गिरने से मुलायम सिंह ने ही बचाया था। माना जाता है कि ‘उपकृत’ मनमोहन सरकार के इशारे पर सीबीआई ने 2014 तक डीए मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। मोदी सरकार में भी यही यथास्थिति क़ायम रही। इन दस सालों के दौरान सीबीआई ने इस मामले को बंद करने के लिए अदालत में दरख्वास्त भी नहीं दी है। यानी यादव परिवार पर कार्रवाई की तलवार अभी भी लटकी है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विपक्षी गठबंधन पर भी सवाल

विज्ञापन

Recommended

समस्त भौतिक सुखों की प्राप्ति हेतु शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा
ज्योतिष समाधान

समस्त भौतिक सुखों की प्राप्ति हेतु शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

India News

पुलवामा हमले के बाद कार्रवाई के साथ-साथ 'वेट एंड वाच' की भूमिका में भारत

पुलवामा में सीआरपीएफ (केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल) काफिले पर आत्मघाती हमले के बाद केंद्र सरकार वेट एंड वाच की भूमिका में है।

20 फरवरी 2019

विज्ञापन

धारा 370 पर राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह का बड़ा बयान

पुलवामा में हुए हमले के बाद देशभर से नेताओं की तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं सामने आ चुकी हैं। अब राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह ने भी इस मुद्दे को लेकर अपनी बात रखी है।

20 फरवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree