लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Rahul Gandhi and Shashi Tharoor accuse central government on issue of bilkis bano and housing for Rohingyas

Dispute: बिलकिस मसले और रोहिंग्याओं को आवास देने के मामले पर घिरी सरकार, राहुल और थरूर ने लगाए ये आरोप

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: शिव शरण शुक्ला Updated Thu, 18 Aug 2022 04:24 PM IST
सार

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जहां बिलकिस बानो मामले के दोषियों की रिहाई पर केंद्र सरकार को घेरा। वहीं, रोहिंग्याओं को दिल्ली में फ्लैट दिए जाने को लेकर हरदीप पुरी के ट्वीट को लेकर कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि भाजपा, भारतीय सभ्यता के साथ विश्वासघात कर रही है। 
 

राहुल गांधी
राहुल गांधी - फोटो : twitter/rahulgandhi
ख़बर सुनें

विस्तार

केंद्र सरकार बिलकिस बानो मामले के दोषियों की रिहाई मामले और रोहिंग्याओं को दिल्ली में फ्लैट दिए जाने के हरदीप पुरी के ट्वीट पर घिरती नजर आ रही है। विपक्ष खासकर कांग्रेस इन दोनों मामलों में केंद्र सरकार पर हमलावर है। गुरुवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जहां बिलकिस बानो मामले के दोषियों की रिहाई पर केंद्र सरकार को घेरा। वहीं, रोहिंग्याओं को दिल्ली में फ्लैट दिए जाने को लेकर हरदीप पुरी के ट्वीट को लेकर कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि भाजपा, भारतीय सभ्यता के साथ विश्वासघात कर रही है। 



बिलकिस बानो मामले में दोषियों की रिहाई पर राहुल गांधी ने साधा निशाना
बिलकिस बानो दुष्कर्म मामले में दोषियों की रिहाई को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला किया। उन्होंने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए भाजपा को ओछी मानसिकता वाली पार्टी करार दिया। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि अपराधियों को भाजपा का समर्थन महिलाओं के प्रति पार्टी की मानसिकता को दर्शाता है।  उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया  कि क्या उन्हें इस तरह की राजनीति पर शर्म आती है?


इसे लेकर केंद्र पर आरोप लगाते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने ट्वीट करते हुए कहा कि 'उन्नाव- भाजपा MLA को बचाने का काम, कठुआ- बलात्कारियों के समर्थन में रैली, हाथरस- बलात्कारियों के पक्ष में सरकार, गुजरात- बलात्कारियों की रिहाई और सम्मान। अपराधियों का समर्थन महिलाओं के प्रति भाजपा की ओछी मानसिकता को दर्शाता है। ऐसी राजनीति पर शर्मिंदगी नहीं होती, प्रधानमंत्री जी?'

पी चिदंबरम ने लगाया आरोप
बिलकिस बानो मामले के दोषियों की रिहाई को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कहा कि भाजपा के दो विधायक उस समीक्षा पैनल का हिस्सा थे जिसने इन अपराधियों को छूट दी थी। उन्होंने कहा कि गुजरात में सामूहिक बलात्कार के दोषी 11 लोगों को छूट प्रदान करने के की एक दिलचस्प पक्ष कहानी है। इसकी समीक्षा पैनल में भाजपा के दो विधायक सी.के. रावलजी और सुमन चौहान थे।

एक औरत को दिए गए न्याय का अंत यही है: बिलकिस बानो
बिलकिस बानो ने भावुक होते हुए कहा कि जब मैंने सुना कि 11 अपराधी जिन्होंने मेरे परिवार और मेरे जीवन को तबाह कर दिया और मेरी 3 साल की बेटी को मुझसे छीन लिया, वे आज मुक्त हो गए तो मैं पूरी तरह से निःशब्द हो गई। मैं अभी भी स्तब्ध हूं। आज मैं बस इतना ही कह सकती हूं - किसी भी महिला के लिए न्याय इस तरह कैसे खत्म हो सकता है? मुझे अपने देश की सर्वोच्च अदालतों पर भरोसा था। मुझे सिस्टम पर भरोसा था और मैं धीरे-धीरे अपने आघात के साथ जीना सीख रही थी। इन दोषियों की रिहाई ने मेरी शांति छीन ली है और न्याय में मेरे विश्वास को हिला दिया है। मेरा दुख और मेरा डगमगाता विश्वास सिर्फ मेरे लिए नहीं बल्कि हर उस महिला के लिए है जो अदालतों में न्याय के लिए संघर्ष कर रही है। इतना बड़ा और अन्यायपूर्ण निर्णय लेने से पहले किसी ने मेरी सुरक्षा और कुशलक्षेम के बारे में नहीं पूछा। मैं गुजरात सरकार से अपील करती हूं, कृपया इस नुकसान को पूर्ववत करें। मुझे बिना किसी डर के और शांति से जीने का मेरा अधिकार वापस दो। कृपया सुनिश्चित करें कि मैं और मेरा परिवार सुरक्षित हैं।

जानें क्या है पूरा मामला
गौरतलब है कि गोधरा कांड के बाद गुजरात में दंगे भड़क गए थे और इसी दंगे के दौरान 3 मार्च 2002 को दाहोद जिले के लिमखेड़ा तालुका के रंधिकपुर गांव में भीड़ ने बिलकिस बानो के परिवार पर हमला किया था। बिलकिस बानो, जो उस समय पाँच महीने की गर्भवती थी, के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया और उसके परिवार के सात सदस्यों को दंगाइयों ने  निर्मम हत्या कर दी।
विज्ञापन

रोहिंग्या विवाद पर शशि थरूर ने केंद्र को घेरा
कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दिल्ली में रोहिंग्याओं के आवास को लेकर पैदा हुए विवाद पर गुरुवार को केंद्र पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार में इस तरह का 'भ्रम' एक राष्ट्र के लिए एक अपमान है जिसने संयुक्त राष्ट्र एजेंसी - यूएनएचसीआर की कार्यकारी समिति में काम किया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा कि 'शरणार्थियों का स्वागत और गले लगाने की सदियों से हमारी गौरवपूर्ण मानवीय परंपरा रही है। भाजपा, कृपया भारतीय सभ्यता के साथ विश्वासघात न करें।' उन्होंने अपने अपने ट्वीट में मंत्री हरदीप पुरी की टिप्पणी और सरकार के इनकार पर एक मीडिया रिपोर्ट भी शेयर की है।

कैसे शुरू हुआ विवाद 
रोहिंग्या प्रवासियों को लेकर केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने एक ट्वीट किया था। जिसके बाद बवाल मच गया। बुधवार को, केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री पुरी ने ट्वीट किया था कि भारत ने हमेशा उन लोगों का स्वागत किया है जिन्होंने देश में शरण मांगी है और सभी रोहिंग्या शरणार्थियों को पूर्वी दिल्ली के बक्करवाला इलाके में ईडब्ल्यूएस फ्लैटों में स्थानांतरित कर दिया जाएगा। 

गृह मंत्रालय ने किया इनकार
केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी के इस ट्वीट के बाद जब बवाल मच गया तो सरकार को इस पर स्थिति साफ करनी पड़ी। गृह मंत्रालय ने एक बयान जारी कर इस पर स्थिति साफ की। गृहमंत्रालय ने अपने बयान में कहा, "रोहिंग्या अवैध विदेशियों के संबंध में मीडिया के कुछ वर्गों में समाचार रिपोर्टों के संबंध में, यह स्पष्ट किया जाता है कि एमएचए ने नई दिल्ली के बक्करवाला में रोहिंग्या अवैध प्रवासियों को ईडब्ल्यूएस फ्लैट प्रदान करने के लिए कोई निर्देश नहीं दिया है।'

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00