रातोंरात नहीं सुलझ सकता किसानों की आत्महत्या का मामला : सुप्रीम कोर्ट

एजेंसी/ नई दिल्ली Updated Fri, 07 Jul 2017 04:53 AM IST
over farmers suicide SC farmer suicides can't be dealt effectively over night
सु्प्रीम कोर्ट - फोटो : SELF
उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि किसानों की आत्महत्या का मामला एक रात में नहीं सुलझाया जा सकता। फसल बीमा योजना जैसी किसान समर्थक योजनाओं के प्रभावी नतीजे आने के लिए कम से कम एक साल के आवश्यकता संबंधी केंद्र की दलील से सहमति जताते हुए न्यायालय ने यह कहा। 

किसानों की आत्महत्या मामले पर सुनवाई करते हुए प्रधान न्यायाधीश जे एस खेहर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा, ‘हमारा मानना है कि किसानों की आत्महत्या के मसले से रातोंरात नहीं निबटा जा सकता। अटार्नी जनरल की तरफ से प्रभावी नतीजों के लिए समय की आवश्यकता की दलील न्यायोचित है।’

पीठ ने केंद्र को समय देते हुए गैर सरकारी संगठन सिटीजन्स रिसोर्स एंड एक्शन इनीशिएटिव की जनहित याचिका पर सुनवाई छह महीने के लिए स्थगित कर दी। अटार्नी जनरल के.के वेणुगोपाल ने केंद्र सरकार की तरफ से उठाए गए किसान समर्थक तमाम उपायों का हवाला देते हुए कहा कि इनके नतीजे सामने आने के लिए सरकार को पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि 12 करोड़ किसानों में से 5.34 करोड़ किसान फसल बीमा सहित अनेक कल्याणकारी योजनाओं के दायरे में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि फसल बीमा योजना के अंतर्गत लगभग 30 फीसदी भूमि है और 2018 के अंत तक इस आंकड़े में अच्छी खासी वृद्धि होगी। सरकार की इस दलील से सहमत होते हुए न्यायालय ने केंद्र को समय दिया है। 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

India News

तोगड़िया बोले- मेरा एनकाउंटर कराने की थी साजिश, हॉस्पिटल में हार्दिक ने की मुलाकात

विश्व हिंदू परिषद के नेता प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि उनका एनकाउंटर कराने की साजिश की जा रही थी।

16 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: LoC से वापस आई पुंछ - रावलकोट के बीच चलने वाली बस

पुछ को पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू और कश्मीर के रावलकोट से जोड़ने वाली बस को एक बार फिर रोक दिया गया। ये बस सोमवार को पुंछ से रावलकोट जाने के लिए चली, लेकिन एलओसी पर पाकिस्तान द्वारा की जा रही क्रास बार्डर फायरिंग के मद्देनजर इसे वापस भेज दिया गया।

17 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper