देश में 2020 सत्र में नहीं खुलेगा कोई नया इंजीनियरिंग कॉलेज, बीटेक कोर्स में नहीं बढ़ेगी सीट

सीमा शर्मा, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: देव कश्यप Updated Thu, 10 Oct 2019 06:08 AM IST
मानव संसाधन एवं विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक (निशंक)
मानव संसाधन एवं विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक (निशंक) - फोटो : एएनआई
विज्ञापन
ख़बर सुनें
वर्ष 2020 सत्र में देश में न कोई नया इंजीनियरिंग कॉलेज खुलेगा और न ही बीटेक के किसी भी कोर्स में कोई सीट बढ़ेगी। खराब प्रदर्शन और नियमों का उल्लंघन करने वाले कॉलेज बंद होंगे। केंद्र सरकार ने अपनी गठित वर्किंग कमेटी की इन सिफारिशों को मंजूरी दे दी है। सरकार का पूरा फोकस राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मार्केट में इंजीनियरों की घटती मांग के चलते नए कॉलेज खोलने की जगह गुणवत्ता बढ़ाने पर है।
विज्ञापन


केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) शैक्षणिक सत्र 2020-21 में नए इंजीनियरिंग कॉलेजों को मान्यता नहीं देगा। राज्यों को जल्द ही इस संबंध में सूचना दे दी जाएगी। इसके अलावा किसी भी इंजीनियरिंग कॉलेज में बीटेक के किसी भी कोर्स में कोई सीट नहीं बढ़ेगी। कॉलेजों को विभिन्न कोर्स में स्पेशलाइजेशन पर फोकस करना होगा जैसे कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, इंटरनेट ऑफ थिकिंग, इंटरनेट एसडब्ल्यू, मोबिलिटी आदि।

पिछले साल गठित हुई थी समिति

सरकार ने 2018 में अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय मार्केट में इंजीनियर की मांग परखने के लिए आईआईटी हैदराबाद के बोर्ड ऑफ गवर्नर के चेयरमैन प्रो. बीवीआर मोहन रेड्डी की अध्यक्षता में आठ सदस्यीय समिति गठित की थी। इसमें आईआईटी, फिक्की, नैसकॉम, एसोचैम, सेंटर फॉर मैनेजमेंट एजुकेशन आदि के विशेषज्ञ शामिल थे। समिति ने रिपोर्ट में लिखा था कि पिछले दो साल से इंजीनियरिंग की पचास फीसदी सीट खाली हैं। जबकि महज 52 फीसदी छात्रों को ही प्लेसमेंट मिल पा रहा है। समिति ने 2020 में नए इंजीनियरिंग कॉलेज न खोलने की सिफारिश की थी।

एनआईआरएफ रैंकिंग वाले संस्थानों में एआई एंड डाटा साइंसेज

एआईसीटीई के इंजीनियरिंग कॉलेजों में 2020 से एआई एंड डाटा साइंसेज (आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस एंड डाटा साइंसेज) कोर्स की पढ़ाई होगी। हालांकि यह कोर्स उन्हीं संस्थानों में शुरू होगा, जोकि एनआईआरएफ रैंकिंग में शीर्ष सौ और एनबीए एक्रीडिटेशन में 75 फीसदी से अधिक अंक लाए होंगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00