Hindi News ›   India News ›   Chandrayaan 2 what happened with lander vikram will be found out in next three days

चंद्रयान-2: लैंडर विक्रम का क्या हुआ, तीन दिन बाद चलेगा पता

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Sneha Baluni Updated Sun, 08 Sep 2019 10:17 AM IST
इसरो का लैंडर से संपर्क टूटने के बाद इसरो अध्यक्ष के चेहरे पर निराशा साफ दिखी
इसरो का लैंडर से संपर्क टूटने के बाद इसरो अध्यक्ष के चेहरे पर निराशा साफ दिखी - फोटो : PTI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

चंद्रयान-2 का लैंडर विक्रम चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करने ही वाला था कि आखिरी के डेढ़ मिनट में इसरो का उससे संपर्क टूट गया। जिसके बाद वैज्ञानिक मायूस हो गए। जिस समय लैंडर का संपर्क टूटा वह चांद की सतह से केवल 2.1 किलोमीटर की दूरी पर था। उसके साथ क्या हुआ, वह कहां और किस हालत में है इसके बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं है। हालांकि ऑर्बिटर पर लगे अत्याधुनिक उपकरणों से जल्द ही सभी सवालों के जवाब मिलने की उम्मीद है।

विज्ञापन

 


इसरो के एक वरिष्ठ वैज्ञानिक ने बताया कि अगले तीन दिनों में विक्रम कहां और किस हालत में है इसका पता चल सकता है। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार एक वरिष्ठ वैज्ञानिक ने कहा, 'तीन दिनों में लैंडर विक्रम के मिलने की उम्मीद है, क्योंकि जिस स्थान पर लैंडर से संपर्क टूटा है उस जगह पहुंचने में ऑर्बिटर को तीन दिन का समय लगेगा। हमें लैंडिंग साइट की जानकारी है। आखिरी पलों में लैंडर अपने रास्ते से भटक गया था।'

हाई रेजोल्यूशन तस्वीरों से लैंडर का लगाया जाएगा पता

उन्होंने आगे कहा, 'ऑर्बिटर के तीन उपकरणों SAR (सिंथेटिक अपर्चर रेडार), IR स्पेक्ट्रोमीटर और कैमरे की मदद से 10 x 10 किलोमीटर के इलाके को छानना होगा। लैंडर विक्रम का पता लगाने के लिए हमें उस इलाके की हाई रेजोल्यूशन तस्वीरें लेनी होंगी।' वैज्ञानिकों से साफ किया कि यदि विक्रम ने क्रैश लैंडिंग की होगी और उसके टुकड़े-टुकड़े हो गए होंगे तो उसके मिलने की संभावना काफी कम है।

वैज्ञानिकों ने बताया कि यदि उसके कंपोनेंट को नुकसान नहीं पहुंचा होगा तो हाई रेजोल्यूशन तस्वीरों के जरिए उसका पता लगाया जा सकता है। इसरो अध्यक्ष के सिवन का भी कहना है कि अगले 14 दिनों तक लैंडर से संपर्क साधने की कोशिशें लगातार जारी रहेंगी। इसरो की टीम इस काम में जुटी हुई है। देश को उम्मीद है कि 14 दिनों में कोई अच्छी खबर मिल सकती है।

सात साल तक काम करेगा ऑर्बिटर

इसरो का कहना है कि चंद्रयान-2 के सटीक प्रक्षेपण और मिशन प्रबंधन की वजह से चंद्रमा की परिक्रमा कर रहा ऑर्बिटर सात वर्ष तक काम करता रहेगा। पहले की गई गणना में इसकी उम्र एक वर्ष आंकी जा रही थी। इसकी कारण है उसके पास बहुत ज्यादा ईंधन बचा हुआ है। ऑर्बिटर पर लगे उपकरणों के जरिए लैंडर विक्रम के मिलने की संभावना है। साथ ही इसरो ने मिशन को 90 से 95 प्रतिशत तक सफल बताया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00