ये है देश की ए-प्लस ग्रेड और प्रदेश की मदर यूनिवर्सिटी का हाल, खाली पड़ा है डीओसी का पद

अमर उजाला, कुरुक्षेत्र Updated Sat, 27 Jun 2020 12:29 PM IST
विज्ञापन
कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी
कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें
पिछले करीब 25 साल में यह पहला मौका है, जब देश की ए-प्लस ग्रेड और हरियाणा की मदर यूनिवर्सिटी केयू में डीन ऑफ कॉलेजिज जैसा महत्वपूर्ण पद तीन माह से खाली है।
विज्ञापन

यह हालात तब हैं, जब कुछ दिन पहले रैंकिंग में शिक्षकों और अन्य खामियों के कारण कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी का रैंक एक पायदान नीचे आया है। हद यह है कि तीन माह से जहां डीन आफ कालेजिज का पद खाली है, वहीं इस समय केयू में कुलपति और रजिस्ट्रार जैसे दोनों प्रमुख पदों को कार्यवाहक संभाल रहे हैं।
हरियाणा के सात जिलों के करीब 175 कालेज कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी के अधीन हैं और इसमें दो लाख से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। इसके बावजूद महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्ति की अनदेखी समझ से परे है। 1996 के बाद यह पहला मौका है, जब डीन ऑफ कालेजिज का पद ना केवल तीन माह से खाली है, बल्कि जिम्मेदारी के लिहाज से केयू को आटो मोड पर छोड़ दिया गया है।
बता दें कि डा. कैलाश चंद्र शर्मा का केयू के कुलपति पद से कार्यकाल 31 मार्च 2020 को समाप्त होने के बाद कार्यवाहक कुलपति का जिम्मा रजिस्ट्रार डा.नीता खन्ना को सौंपा गया था। इस नियुक्ति के बाद कई पदों पर फेरबदल हुए, यहां तक की कार्यवाहक रजिस्ट्रार पद पर नई नियुक्ति भी हुई, मगर डीन ऑफ कालेजिज के पद पर नियुक्ति नहीं हो सकी।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

तो क्या स्थायी कुलपति ही करेंगे डीओसी नियुक्त

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us